Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

छत्तीसगढ़: मुश्किल डगर में भी चलकर निको ने हासिल की सफलता

जायसवाल निको इंडस्ट्रीज लिमिटेड उद्योग समूह विगत 50 वर्षों से अधिक कार्यरत है। देश की उन्नति में समानांतर भागीदारी रखती है।

छत्तीसगढ़: मुश्किल डगर में भी चलकर निको ने हासिल की सफलता
X

जायसवाल निको इंडस्ट्रीज लिमिटेड (जेएनआईएल) उद्योग समूह विगत 50 वर्षों से अधिक कार्यरत है। देश की उन्नति में समानांतर भागीदारी रखती है। यह उद्योग समूह 70 के दशक में अपनी प्रथम फाउंड्री व्यवसाय नागपुर शहर में प्रारंभ की थी। इसके तत्पश्चात लौह एवं इस्पात के विस्तारीकरण हेतु छत्तीसगढ़ में 1996 में एकीकृत स्टील उद्योग की स्थापना की।

छत्तीसगढ़ में स्थापित उद्योग, देश के अग्रणी उच्च एवं मध्यम श्रेणी के एलॉय स्टील उत्पादक के नाम से स्थापित हो चुकी है। इन विगत 50 वर्षों में कंपनी ने कई उतार - चढ़ाव देखे हैं। कंपनी सदैव अपनी सूझबूझ एवं कार्यकुशलता पर निर्भर करते हुए समस्याओं का निराकरण करते हुए अग्रसर रहा है।

उत्तर पूर्व में पाक ने बनाई योजना,चीन दे रहा समर्थन- सेना प्रमुख

कंपनी प्रबंधन ने कहा, विगत 2 वर्ष में राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय लौह एवं इस्पात के बाजार में विपरित परिस्थितियों के पैदा होने से काफी समस्याएं उत्पन्न हुई हैं। यह समस्याएं और जटिल हो गई जब उच्चतम न्यायालय के आदेश पर देश में चल रहे सभी निजी सेक्टर के कोल ब्लाकों को निरस्त कर दिया गया।
यह परिस्थिति अब सामान्य होती जा रही है। उद्योग जगत आशा करती है की परिस्थितियां भविष्य में और बेहतर होगी। बाजार की विपरित परिस्थितियों के कारण कंपनी ने अपने बैकों को ऋण पुनर्निर्माण हेतु अनुरोध किया।
इस अनुरोध को बैंक ने स्वीकार करते हुए कंपनी के ऋण को रिर्जव बैंक द्वारा निर्देशित मापदण्डों पर अनुमोदित करते हुए मास्टर रिस्ट्रक्चरिंग एग्रीमेंट को पूर्ण बहुमत से पारित किया। कंपनी अपने कार्यशील पूंजी में देय सभी दायित्वों जिसमें लेटर ऑफ क्रेडिट सम्मिलित है, जो कि सामान्यत: उद्योगों को बैंकों द्वारा दी जाती है, उसका पूर्ण भुगतान किया जाता रहा है एवं भविष्य में किया जाएगा।
कंपनी अपने सभी देनदारों, अंशधारकों, कच्चे माल के आपूर्तिकर्ताओं और कर्मचारियों को यह सुनिश्चित कराना चाहती है कि कंपनी के पास अपने ऋणों के भुगतान हेतु पर्याप्त संसाधन उपलब्ध है।
कंपनी प्रबंधन के अनुसार, वर्तमान में लौह एवं इस्पात उद्योगों में मांग की स्थिति बढ़ने की दशा में जो अनुकूल परिस्थितियां पैदा हुई है। इससे वित्तीय स्थिति और मजबूत हो गई है। कंपनी यह अनुरोध करना चाहती है कि इस विषय पर किसी भी प्रकार के स्पष्टीकरण एवं सही स्थिति की जानकारी हेतु कंपनी से सीधा संपर्क किया जा सकता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story