logo
Breaking

स्पेशल जज जायसवाल ने सुनाया फैसला, नाबालिग के साथ दुष्कर्म मामले में 10 साल की सजा

13 वर्षीय बालिका से दुष्कर्म के मामले में गुरुवार को रायपुर कोर्ट में आरोपी को 10 वर्ष की कैद हुई है। यह फैसला पाक्सो स्पेशल जज पूजा जायसवाल ने सुनाया। आरोपी को 2000 रुपए जुर्माना भी देना होगा।

स्पेशल जज जायसवाल ने सुनाया फैसला, नाबालिग के साथ दुष्कर्म मामले में 10 साल की सजा
13 वर्षीय बालिका से दुष्कर्म के मामले में गुरुवार को रायपुर कोर्ट में आरोपी को 10 वर्ष की कैद हुई है। यह फैसला पाक्सो स्पेशल जज पूजा जायसवाल ने सुनाया। आरोपी को 2000 रुपए जुर्माना भी देना होगा।
विशेष लोक अभियोजक अधिकारी गाजेन्द्र सोनकर ने बताया कि गुढ़ियारी इलाके से 24 जून 2016 को एक 13 वर्षीय बालिका लापता हो गई थी। इस मामले में उनके परिजनों ने गुढ़ियारी थाने में रिपोर्ट लिखाई।
अज्ञात आरोपी के खिलाफ थाने में आईपीसी की धारा 363 मामला दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू की। विवेचना के दौरान 28 नवंबर 2016 को बालिका रवि विश्वकर्मा (20) के कब्जे से बरामद हुई। इसके बाद आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा, 366, 376, पाक्सो की धारा 4 अौर 6 जोड़ा गया।
पीड़िता के कथनानुसार आरोपी के खिलाफ अतिरिक्त आरोप लगते ही बालिका का मेडिकल चेकअप कराया गया। इससे स्पष्ट हुआ कि आरोपी ने पीड़िता को शादी का झांसा देकर कई बार दुष्कर्म किया है।
दोनों पक्षों को सुनने के बाद स्पेशल जज पूजा जायसवाल ने आरोपी के कृत्य को गंभीर अपराध माना और कहा कि इससे समाज में विपरीत प्रभाव पड़ता है, इसलिए उन्होंने आरोपी को दोषी करार दिया। उन्होंने आरोपी को 10 वर्ष का सश्रम कारावास की सजा सुनाई।
इसमें आईपीसी की धारा 363 के तहत तीन वर्ष का सश्रम कारावास व 500 रुपए जुर्माना, 366 के तहत पांच वर्ष व 500 रुपए का जुर्माना तथा पाक्सो की धारा 6 के तहत 10 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 1000 रुपए के जुर्माने की सजा शामिल है। सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी।
Share it
Top