Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अगस्त में तय होगा स्काईवॉक का भविष्य, तोड़ने-बनाने पर होगा सस्पेंस खत्म

राजधानी के हृदयस्थल पर बने स्काईवॉक को तोड़ने और पूरा बनाने को लेकर 6 महीने से बरकरार सस्पेंस पर अब विराम लगने वाला है। अब पब्लिक व्यू की रिपोर्ट पर शासन स्तर पर होमवर्क शुरू हो गया है।

अगस्त में तय होगा स्काईवॉक का भविष्य, तोड़ने-बनाने पर होगा सस्पेंस खत्मSkywalks future will be decided in August

राजधानी के हृदयस्थल पर बने स्काईवॉक को तोड़ने और पूरा बनाने को लेकर 6 महीने से बरकरार सस्पेंस पर अब विराम लगने वाला है। अब पब्लिक व्यू की रिपोर्ट पर शासन स्तर पर होमवर्क शुरू हो गया है। अगस्त महीने में स्काईवॉक के भविष्य पर फैसला होने की संभावना है। रिपोर्ट के आधार पर फैसला लिया जाएगा। दरअसल पीडब्ल्यूडी ने स्काईवॉक को लेकर 1 से 15 जून तक पब्लिक व्यू मांगा था।

इसकी स्कूटनी करने के बाद पब्लिक व्यू की रिपोर्ट तैयार की गई और उसे हफ्तेभर पहले शासन को सौंप दिया गया। इसमें स्काईवॉक तोड़ने और बनाने वालों का प्रतिशत भी दर्ज किया गया है। इस रिपोर्ट का शासन स्तर पर अध्ययन शुरू कर दिया गया है। एक्सपर्ट से इसमें राय भी ली जा रही है, जो पखवाड़ेभर में पूरी हो जाएगी। इसके बाद स्काईवॉक को बनाना है या फिर तोड़ना है, इसका फैसला किया जाएगा।

69 फीसदी बनाने के पक्ष में

सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक करीब 69 फीसदी लोगों ने कहा है, स्काईवॉक का 70 फीसदी निर्माण कार्य पूरा होने और 50 करोड़ रुपए खर्च करने के बाद इसे तोड़ने का औचित्य नहीं बनता। वहीं महज 5 फीसदी लोगों ने अपने सुझाव में स्काईवॉक को अनुपयोगी बताते हुए उसे तोड़ने की सलाह दी है। इसके अलावा 26 फीसदी ने मोनो रेल, बाजार, कपड़ा मार्केट, म्यूजियम और वॉकिंग पाइंट बनाने का व्यू दिया था, जिसे शासन को भेजा गया है। अगर पब्लिक व्यू के आधार पर फैसला होता है, तो स्काईवॉक को पूरा करने का रास्ता साफ दिख रहा है।

शासन करेगा फैसला

स्काईवॉक को लेकर पब्लिक व्यू की रिपोर्ट तैयार कर शासन का भेज दी गई है। आगे का फैसला शासन स्तर पर होगा।

Share it
Top