Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मुख्यमंत्री राहत कोष में सहायता राशि जमा करने स्कूली बच्चे भी आ रहे आगे, 2 बच्चों ने महापौर को सौंपे गुल्लक

राजनांदगांव शहर के चिखली क्षेत्र के निवासी कक्षा आठवीं में पढ़ने वाली निधि पाल और कक्षा तीसरी में पढ़ने वाले तन्मय पाल ने जरूरतमंदों की सहायता के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में अपने गुल्लक में जमा रुपए का दान किया है। आज सुबह दोनों बच्चे महापौर हेमा देशमुख के कार्यालय अपने गुल्लक लेकर पहुंच गए।

मुख्यमंत्री राहत कोष में सहायता राशि जमा करने स्कूली बच्चे भी आ रहे आगे, 2 बच्चों ने महापौर को सौंपे गुल्लक
X

राजनांदगांव. राजनांदगांव शहर के 2 बच्चों ने अपने गुल्लक में जमा रुपयों का दान मुख्यमंत्री राहत कोष में किया है। कोरोनावायरस के खिलाफ चल रही जंग में हर कोई अपनी सहभागिता निभाना चाहता है। कोरोना के खिलाफ इस लडा़ई में बच्चे भी पीछे नहीं हैं। लॉक डाउन की वजह से लोगों के पास भोजन की व्यवस्था जुटाने में हो रही मशक्कत से भी वे भलीभांति वाकिफ भी हैं। ऐसे में बच्चों के मन में भी लोगों की सहायता करने की इच्छा जागृत हो रही है।

राजनांदगांव शहर के चिखली क्षेत्र के निवासी कक्षा आठवीं में पढ़ने वाली निधि पाल और कक्षा तीसरी में पढ़ने वाले तन्मय पाल ने जरूरतमंदों की सहायता के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में अपने गुल्लक में जमा रुपए का दान किया है। आज सुबह दोनों बच्चे महापौर हेमा देशमुख के कार्यालय अपने गुल्लक लेकर पहुंच गए। बच्चों ने यहां महापौर से मुख्यमंत्री राहत कोष में रुपए दान करने की इच्छा जताई। बच्चों ने महापौर के सामने ही अपने गुल्लक तोड़े और रुपए मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए सौंप दिए। बच्चों ने कहा कि कुछ बच्चों के द्वारा अपने गुल्लक के रुपए के दान करने की खबर उन्होंने देखी थी जिससे प्रेरित होकर उन्होंने भी दान किया है । वे चाहते हैं कि उनके रुपए जरूरतमंदों के काम आए और कोरोनावायरस से निपटने में कहीं दिक्कत ना हो।

बच्चों की इस सोच की सराहना करते हुए महापौर ने कहा कि वे गौरवान्वित हैं कि ऐसे बच्चे राजनांदगांव में है जो असहाय लोगों के लिए मदद की भावना लेकर सामने आए हैं। बच्चों के अभिभावकों का कहना है कि उन्हें काफी गर्व हो रहा है कि उनके बच्चे इस वैश्विक महामारी से निपटने के लिए अपने गुल्लक में जमा रुपए का दान कर रहे हैं। शहर के चिखली निवासी तन्मय और निधि लगभग 2 वर्षों से गुल्लक में रुपए जमा कर रहे थे। सिक्के और नोट मिलाकर लगभग 11 सौ रूपये का दान उन्होंने मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए किया है। इन बच्चों की सेवा भावना देखकर हर कोई इनकी प्रशंसा कर रहा है।



Next Story