logo
Breaking

राजनांदगांव के कारोबारी संतोष अग्रवाल ने किया बड़ा खनिज घोटाला, थाने में हुई शिकायत

राजधानी में बड़ा खनिज रॉयल्टी घोटाला सामने आया है. कलेक्टर ओपी चौधरी ने पूरे मामले की जाँच कराने के बाद अब इस मामले में ऍफ़आईआर करवाने के निर्देश जिला खनिज अधिकारियों को दी है

राजनांदगांव के कारोबारी संतोष अग्रवाल ने किया बड़ा खनिज घोटाला, थाने में हुई शिकायत

राजधानी में बड़ा खनिज रॉयल्टी घोटाला सामने आया है. कलेक्टर ओपी चौधरी ने पूरे मामले की जाँच कराने के बाद अब इस मामले में ऍफ़आईआर करवाने के निर्देश जिला खनिज अधिकारियों को दी है. इसके बाद औपचारिक रूप से एक पत्र भी सिविल लाइन थाने में दिया गया है और संबंधित के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर कारवाई की मांग की गई है.

सूत्रों के अनुसार इस मामले की शिकायत विगत दिनों पूर्व पंचायत सदस्य परमानद जांगडे द्वारा कलेक्टर से की गई थी इसके बाद कलेक्टर ने पूरे प्रकरण की जांच करवाई तब शिकायत सही पाई गई है. इसमें राज्नान्द्गाँव के संतोष अग्रवाल को दोषी पाया गया है. संतोष अग्रवाल ने डोंगरगढ़ में निर्माण कार्य का ठेका लिया था. इसके लिए उसने रायपुर के खनिज कार्यालय से रॉयल्टी चुकता प्रमाण के 206 नग चुना पत्थर की रोयल्टी जमा की थी .इन सभी पर्चियों को राज्नान्द्गंव् कलेक्टर ने सत्यापन के लेइए रायपुर कलेक्टर को भेजा तब सारे गोलमाल का खुलासा हुआ .
बताया जा रहा है कि रायपुर खनिज विभाग से यह पर्ची नविन पटेल नाम के पट्टेदार को जारी कि गई थी. इसी का दुरूपयोग करके न्संतोश अग्रवाल ने बड़ा गोलमाल किया है. इस गोलमाल के सामने आने के बाद रोयल्टी पर्ची के बड़े रैकेट के खुलासा होने का अंदेशा है. इसमें सरकार को अरबो रूपए नुक्सान होने की बात भी सामने आ रही है.

इनके नाम भी दी गए थाने

कलेक्टर कार्यालय के खनिज विभाग की ओर से जो पत्र आज थाने में दिया गया है उसमे पट्टेदार नवीन पटेल, शिव कुमार अग्रवाल, भावना पटेल, मनीष अग्रवाल, एच एस अरोरा, शिव वेरमा, और राकेश दुबे के भी नाम है. इन सभी का जिले के खनिज अधिकारी ने बयान लिया था. क्योंकि इन्हें भी नियमानुसार रोयल्टी पर्ची जारी की गई थी इसका उपयोग संतोष अग्रवाल द्वारा किया गया है.

शिकायत पत्र मिला है

इस मामले में सिविल लाइन टीआई यदुमनी सिदार ने बताया कि कलेक्टर कार्यालय की ओर से पत्र प्राप्त हुआ है इसका अध्ययन कर आगे की कारवाई तय की जाएगी.
Share it
Top