Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

रायपुरः 'शासकीय कर्मचारी' का दर्जा देने सहित 5 सूत्रीय मांगो को लेकर धरने पर बैठे रसोइये

मानदेय बढ़ाने, भविष्य निधि योजना से जोड़ने और भोजन पकाने के लिए गैस सिलेण्डर दिये जाने की भी है मांग

रायपुरः Raipur: Chefs sitting on dharna with different demands, including 'government employee' status

रायपुर। अपनी विभिन्न मांगों को लेकर छत्तीसगढ़ राज्य मध्यान भोजन रसोइया कल्याण संघ के बैनर तले प्रदेशभर के हजारों की संख्या में रसोइए सरकार के बूढ़ातालाब स्थित धरना स्थल खिलाफ धरना दे रहे हैं। प्रदर्शन कर रहे रसोइये कलेक्टर दर पर मानदेय देने, शासकीय कर्मचारी का दर्जा, सभी को भविष्य निधि योजना से जोड़ने और भोजन पकाने के लिए गैस सिलेण्डर दिये जाने की मांग कर रहे हैं।

अपनी मांगों को लेकर संघ का कहना है कि बच्चों को भोजन खिलाने की जिम्मेदारी हमारी है, लेकिन हमें सिर्फ 40 रुपए रोजी मिलती है। और 6 घंटे काम कराया जाता है और महीने में 1200 रुपये ही मानदेय मिलता है। जो कि बढ़ती के हिसाब से काफी कम है। रसोइयों ने कहा कि महंगाई बढ़ने के साथ हमारे वेतन में कोई वृद्धि नहीं हुई।

उन्होंने कहा कि खाना पकाने के लिए रसोई गैस भी नहीं दिया गया है, जिसकी वजह से चूल्हे में खाना बनाना पड़ता है। संघ का कहना है कि अगर सरकार हमारी मांगो को नही मानती है तो हम उग्र प्रदर्शन के लिए बाध्य होंगे। बता दे बच्चों की स्कूलों में उपस्थिति बढ़ाने के लिए राज्य सरकार ने मध्यान्ह भोजन की शुरुआत की थी। इसके साथ ही सरकारी स्कूलों में पहुंचने वाले अभावग्रस्त कुपोषित बच्चों को सुपोषित करने का भी एक बड़ा लक्ष्य था।

Next Story
Top