Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गणेश हाथी को एलिफेंट रेस्क्यू सेंटर तमोर पिंगला में शिफ्ट करने की तैयारी, कर्नाटक से लाये गए कुमकी हाथियों का होगा इस्तेमाल

कोरबा वनमंडल में आतंक का पर्याय बने गणेश हाथी को कब्जे में कर सरगुजा वन वृत्त के हाथी रेस्क्यू सेंटर पिंगला में शिफ्ट करने की तैयारी चल रही है। शासन स्तर से विशेषज्ञों के साथ बनाई गई कार्य योजना में पहली बार कर्नाटक से लाए गए कुमकी हाथियों का भी इस्तेमाल किया जाएगा।

गणेश हाथी को एलिफेंट रेस्क्यू सेंटर तमोर पिंगला में शिफ्ट करने की तैयारी, कर्नाटक से लाये गए कुमकी हाथियों का होगा इस्तेमालPreparing to shift Ganesh Hathi to Elephant Rescue Center Tamor Pingala

कोरबा. कोरबा वनमंडल में आतंक का पर्याय बने गणेश हाथी को कब्जे में कर सरगुजा वन वृत्त के हाथी रेस्क्यू सेंटर पिंगला में शिफ्ट करने की तैयारी चल रही है। शासन स्तर से विशेषज्ञों के साथ बनाई गई कार्य योजना में पहली बार कर्नाटक से लाए गए कुमकी हाथियों का भी इस्तेमाल किया जाएगा।

पिछले दो वर्षो से छत्तीसगढ़ में लाए गए कर्नाटक के प्रशिक्षित कुमकी की हाथियों की उपयोगिता इस ऑपरेशन के जरिए सामने आएगी कि वे उत्पाती जंगली हाथियों को काबू में करने दक्ष है अथवा नहीं। वन विभाग के आला अधिकारियों के मार्गदर्शन में कुमकी हाथियों को रेस्क्यू सेंटर से ऑपरेशन स्थल की ओर ले जाया गया है

दंतैल हाथी गणेश के आतंक से कोरबा वन मंडल के कई गांव थर्रा रहे हैं। यहां हाथी लंबे समय से स्वच्छंद विचरण कर रहा है। दल के साथ नहीं होने के कारण इसकी मौजूदगी का सही प्रमाण भी नहीं मिलता। उक्त हाथी पर सेटेलाइट कालर आईडी भी नहीं लगा है, जिसके माध्यम से उसका लोकेशन मिल सके। कोरबा वन मंडल में गणेश हाथी द्वारा अभी तक एक दर्जन लोगों को मार डाला गया है। इसमें एक वन कर्मचारी भी शामिल है।

Share it
Top