logo
Breaking

छत्तीसगढ़/ मुफ्त LPG लेने का गरीबों को सरकार के आदेश का इंतजार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी गरीबों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन देने की घोषणा की है। अब उज्ज्वला योजना का लाभ लेने के लिए 2011 की गरीबी रेखा सूची में नाम होने की बाध्यता नहीं है। सिर्फ 14 बिंदुओं के मापदंड पर खरा उतरने वाला योजना का लाभ लेने पात्र होगा।

छत्तीसगढ़/ मुफ्त LPG लेने का गरीबों को सरकार के आदेश का इंतजार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी गरीबों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन देने की घोषणा की है। अब उज्ज्वला योजना का लाभ लेने के लिए 2011 की गरीबी रेखा सूची में नाम होने की बाध्यता नहीं है। सिर्फ 14 बिंदुओं के मापदंड पर खरा उतरने वाला योजना का लाभ लेने पात्र होगा।

हालांकि इसे लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखकर लिए गए निर्णय के रूप में देखा जा रहा है, लेकिन इस घोषणा के बाद उन गरीबों को इसके आदेश का इंतजार है, जो पहले इस योजना के लाभ से वंचित रह गए थे।
उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने गरीबों को ईंधन के लिए होने वाली परेशानी को देखते हुए 1 मई 2016 से प्रधाममंत्री उज्ज्वला योजना की शुरुआत की है। इसके तहत वर्ष 2011 की गरीबी रेखा सर्वे सूची में शामिल उन परिवार की महिलाओं को मात्र 200 रुपए का प्रक्रिया शुल्क लेकर गैस सिलेंडर व चूल्हा प्रदान किया जाना है, जिनके पास पहले से गैस कनेक्शन नहीं है।
उनसे लिए गए 200 रुपए में भी 140 रुपए हितग्राही महिलाओं के खाते में जमा किया जाना है। सन् 2019-20 तक देशभर की 25 लाख महिलाओं को योजना का लाभ देने का लक्ष्य है।
सरकार द्वारा इस योजना का न केवल व्यापक प्रचार प्रसार किया गया, बल्कि बड़े-बड़े आयोजन कर योजना के तहत गैस सिलेंडर भी बांटे गए। इसके बावजूद हाल ही में हुए पांच राज्यों के चुनाव में भाजपा को हार झेलनी पड़ी। अब विधानसभा के बाद आगामी मई में देश में आम चुनाव होना है। इसे लेकर सभी राजनीतिक दलों ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है।
कांग्रेस ने चुनाव के तत्काल बाद अपने चुावी घोषणापत्र में किसानों की कर्जमाफी व धान का समर्थन मूल्य को बढ़ाकर पूरे देश में माहौल बना दिया है। ऐसे में अपनी सत्ता को बचाए रखने भाजपा के सामने बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है। ऐसे में केंद्र सरकार द्वारा मतदाताओं को लुभाने का प्रयास अभी से शुरू कर दिया गया है। सभी गरीबों को मुफ्त एलपीजी देने की घोषणा को उसी की एक कड़ी माना जा रहा है।
इस नए निर्णय के तहत उज्ज्वला योजना का लाभ लेने अब सन् 2011 की गरीबी रेखा सर्वे सूची में नाम होने की बाध्यता नहीं होगी। इसके लिए 14 बिंदुओं का मापदंड तय किया गया है।
इसे पूरा करने वालों को इस योजना का लाभ मिलेगा। आवेदक को आवेदन के साथ 14 बिंदुओं की जानकारी देनी होगी। इसके सत्यापन के बाद कनेक्शन दे दिया जाएगा।
गरीबों को आदेश का इंतजार
उज्ज्वला योजना का लाभ लेने बड़ी संख्या में इसलिए वंचित हो गए थे कि उनका नाम 2011 की सर्वे सूची में शामिल नहीं था अथवा उनके पास गरीबी रेखा का राशनकार्ड नहीं था। अब गरीबों को नए आदेश का इंतजार है।
इससे यह भी स्पष्ट होगा कि उन्हें कौन से 14 बिंदुओं की जानकारी देनी होगी और वे कौन इसके लिए पात्र होगा। हालांकि बड़ी संख्या में गरीबों को योजना का लाभ मिलने की उम्मीद है।

नहीं आया आदेश

उज्ज्वला योजना को लेकर अभी कोई नया आदेश नहीं आया, इसलिए इस संबंध में अभी कुछ भी नहीं कह पाऊंगा। कोई आदेश आने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी।
- जीएस राठौर, खाद्य नियंत्रक रायपुर
Share it
Top