Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक बोले- नरवा-गरुवा-घुरुवा-बारी भी जुमला न बन जाये, बिजली बिल भी हाफ का हाफ है...

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि नरवा-गरुवा-घुरुवा-बारी भी जुमला न बनकर रह जाये. उन्होंने आगे कहा कि बजट कैसे आएगा ये क्लियर होना चाहिए. अच्छे वित्तीय प्रबंधन होना चाहिए. ब्याज की राशि बढ़ेगी तो छत्तीसगढ़ का विकास प्रभावित होगा.

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक बोले- नरवा-गरुवा-घुरुवा-बारी भी जुमला न बन जाये, बिजली बिल भी हाफ का हाफ है...

अंकिता शर्मा, रायपुर. नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि नरवा-गरुवा-घुरुवा-बारी भी जुमला न बनकर रह जाये. उन्होंने आगे कहा कि बजट कैसे आएगा ये क्लियर होना चाहिए. अच्छे वित्तीय प्रबंधन होना चाहिए. ब्याज की राशि बढ़ेगी तो छत्तीसगढ़ का विकास प्रभावित होगा. इस पर चर्चा होनी चाहिए. प्राप्त और व्यय पर पूरा बजट है. लाभ का बजट है तो पुलिस की मांगें, शिक्षा कर्मी की मांगे पूरी क्यों नहीं हुई. इनके बजट में प्रावधान क्यों नहीं किया गया. हमारी बजट में 23 प्रतिशत राशि ब्याज के रूप में देनी पड़ेगी.

कौशिक ने आगे कहा कि बिजली बिल हाफ वास्तविकता से परे है क्योकि यह हाफ का हाफ है. 400 यूनिट से अधिक हुआ तो उसका भी लाभ जनता को मिलना चहिये. क्योकि सरकार ने घोषणा पत्र में बिजली बिल हाफ करने की बात कही थी लेकिन ऐसा कुछ नही हुआ. पुलिस का राजनीति करण हो रहा है. राजधानी के आस पास घटना लगातार बढ़ी है. पुलिस की सक्रियता नही है. आरोपी को गिरफ्तार करना छोड़ पुलिस दूसरे कामो में लगी है. जितने लोगो बीमारों से नही मार रहे है उतने तो एक्सीडेंट से मर रहे है. इस दिशा में जागरूकता लाने का काम करना चाहिए.
कौशिक ने आगे कहा कि सोशल सेक्टर में कमी आई है. ऐसे सेक्टर में पैसे का सदुपयोग हो तो बेहतर होगा.
सिम्स में आग लगी और 5 लोगो की मौत हो गई है. स्वाइन फ्लू की घटना आप देख रहे है. कई मौते हो गई. डॉक्टर के जो रिक्त पद है टेकनीशियन के जो पद रिक्त है. प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है वो बिना डॉक्टर के संचालित है. क्या ये उदाहरण से चल जाएगा कि अजय जी नही किये तो हम भी नही करेंगे.
कौशिक ने सरकार के वादे पर सवाल उठाते हुए कहा कि शराबबंदी को लेकर जब बात आई तो मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता से पूछ के करेंगे. आपने जनता से पूछकर घोषणा पत्र में डाला था क्या. किसानों में बारे में जो पेंशन की बात आई थी सरकार को उसका प्रावधान करना था. जो आश्रित किसान है ये उनके हित के लिए था सरकार को 1000 -1500 का व्यवस्था करना था.
Next Story
Share it
Top