logo
Breaking

छत्तीसगढ़/ रविंद्र चौबे, प्रेमसाय, जयसिंह, अकबर समेत 9 मंत्री लेंगे शपथ, एक रोका गया

काफी कश्मकश के बाद आखिरकार भूपेश मंत्रिमंडल का चेहरा तय हो गया। लेकिन खास बात यह है कि दस नहीं, बल्कि नौ मंत्री ही मंगलवार को शपथ लेंगे। एक पद खाली रहेगा, इसे बाद में भरा जाएगा।

छत्तीसगढ़/ रविंद्र चौबे, प्रेमसाय, जयसिंह, अकबर समेत 9 मंत्री लेंगे शपथ, एक रोका गया

काफी कश्मकश के बाद आखिरकार भूपेश मंत्रिमंडल का चेहरा तय हो गया। लेकिन खास बात यह है कि दस नहीं, बल्कि नौ मंत्री ही मंगलवार को शपथ लेंगे। एक पद खाली रहेगा, इसे बाद में भरा जाएगा। ऐसा संभवत: प्रबल दावेदारों में से एक पर सहमति फिलहाल नहीं बन पाई है। जिन मंत्रियों को शपथ लेना है, उनमें रविंद्र चौबे, मोहम्मद अकबर, शिव डहरिया समेत नौ मंत्री शामिल हैं।

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के पहले मंत्रिमंडल विस्तार में नौ मंत्री शामिल किए गए हैं। मंगलवार को ये रायपुर के पुलिस मैदान में शपथ ग्रहण करेंगे। राज्यपाल आनंदी बेन पटेल इन्हें पद व गोपनीयता की शपथ दिलाएंगी।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व मंत्री ताम्रध्वज साहू सोमवार देर रात राजभवन पंहुचे और वहां राज्यपाल से मुलाकात कर उन्हें मंत्रियों की सूची सौंपी। इससे पहले तक मंत्रियों के नामों को लेकर अटकलों का दौर चल रहा था। लेकिन आधी रात को तस्वीर साफ हो गई। मंत्री पद के लिए कई नेता प्रबल दावेदार थे, लेकिन इन्हें मौका नहीं मिला है।
इन नेताओं में धनेंद्र साहू, सत्यनारायण शर्मा, अमितेश शुक्ला, मनोज मंडावी, अमरजीत भगत, दीपक बैज, अरुण वोरा, आदि शामिल थे। माना जा रहा है कि इन नेताओं को निगम,मंडल प्राधिकरणों में स्थान दिया जाएगा।

कई दावेदार, इसलिए हुए दरकिनार
मंत्रियों की सूची आने के बाद ये साफ हो गया है कि मंत्री पद की दौड़ में शामिल कई नेताओं को मौका नहीं मिल पाया है। इसके पीछे सबसे बड़ी वजह ये है कि कांग्रेस के 68 विधायक जीतकर आए हैं। इनमें से पहली बार वालों के लिए साफ कर दिया गया कि उन्हें मंत्री नहीं बनाया जाएगा।
लेकिन कांग्रेस विधायकों में ऐसे नेता भी हो जो अविभाजित मध्यप्रदेश सरकार में और वर्ष 2000 में बनी कांग्रेस सरकार में मंत्री रह चुके हैं। कई विधायक ऐसे हैं जो तीन से लेकर छह, सात बार भी चुनाव जीते हैं।
यही कारण है कि पार्टी को यह तय करना मुश्किल हो रहा था कि किसे शामिल किया जाए किसे छोड़ा जाए। मंत्री के चयन के दौरान संभागवार समीकरण, क्षेत्रीय समीकरण, जातीय समीकरण, मंत्री के रूप में बेहतर प्रदर्शन करने की क्षमता जैसे कई पैमाने पर नामों का परीक्षण किया गया है।
मंत्रियों की भारी दावेदारी के बीच मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को यह भी कहना पड़ा कि छत्तीसगढ़ में अधिक संख्या में मंत्री बनाने के लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखेंगे। लिहाजा मंत्री पद के संभावित नामों को लेकर जोड़तोड़ लगातार चलती रही। मंत्रियों की सूची राजभवन के देने से पहले किसी का नाम जुड़ने और किसी का कटने की अटकलें जारी रही।
कांग्रेस में पहली बार ये भी देखने में आया कि मंत्रियों की सूची शपथ ग्रहण के अंतिम कुछ घंटो तक भी जारी नहीं की गई। गोपनीयता का आलम रहा कि संभावित दावेदार सोमवार सुबह से देर रात तक इस सूचना के इंतजार में एक-एक पल गिनते रहे कि कब उनके लिए संदेश का फोन आए।
ये लेंगे शपथ
रविंद्र चौबे, मोहम्मद अकबर, शिव डहरिया, प्रेमसाय सिंह, जयसिंह अग्रवाल, अनिला भेड़िया, रुद्र गुरू, कवासी लखमा, उमेश पटेल
Share it
Top