Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लॉकडाउन में कुकिंग का शौक पूरा कर रहे विधायक कृष्णमूर्ति बांधी, बर्तन भी खुद मांज रहे

लिहाजा रोजमर्रा के खाने-पीने और कामकाज का जिम्मा विधायक डॉक्टर बांधी ही अपने कांधे पर लिए बैठे हैं। इसकी पड़ताल करने जब INH 24X7 की टीम उनके घर पहुंची तो देखा कि डॉक्टर बांधी अपने घर के आंगन में चूल्हे को फुकनी से फूंक कर जला रहे थे। जिसमें विधायक सब्जी बनाने की तैयारी में जुटे हुए थे और उनके आज का डिश उनका पसंदीदा सब्जी करेले का भरता था। जिसे बनाने के लिए विधायक मशक्कत कर रहे थे।

लॉकडाउन में कुकिंग का शौक पूरा कर रहे विधायक कृष्णमूर्ति बांधी, बर्तन भी खुद मांज रहे
X

बिलासपुर. इन दिनों कोरोना को लेकर लॉकडाउन हैं, और नेता भी अपने घर में लॉकडाउन का आनंद उठा रहे हैं। ऐसे में छत्तीसगढ़ के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और वर्तमान मस्तूरी विधानसभा के विधायक डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी अपने घर के घरेलू कामकाज में लीन नज़र आ रहें है, वे कोरोना से जंग को बखूबी लड़ते हुए नज़र आ रहें है। इसमें डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी अपने विधानसभा क्षेत्र की समस्याओं और आवश्यकताओं को लेकर सुबह एक-एक गांवों का हाल जानते है और उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए जुटे हुए है, इसमें कोई कमी-खामी होने पर क्षेत्र के एसडीएम, कलेक्टर व एसपी से फोन पर फीडबैक लेते हैं।

इसके अलावा अपने परिवार को खुश रखने के लिए घर के किचन में कुकिंग का जिम्मा भी सम्भाल रहें है, साथ ही किचन में उपयोग होने वाले बर्तनों को भी खुद ही धो रहें है। चूंकि कोरोना की महामारी होने के कारण नौकरानी की छुट्टी दे दी गई है। लिहाजा रोजमर्रा के खाने-पीने और कामकाज का जिम्मा विधायक डॉक्टर बांधी ही अपने कांधे पर लिए बैठे हैं। इसकी पड़ताल करने जब INH 24X7 की टीम उनके घर पहुंची तो देखा कि डॉक्टर बांधी अपने घर के आंगन में चूल्हे को फुकनी से फूंक कर जला रहे थे। जिसमें विधायक सब्जी बनाने की तैयारी में जुटे हुए थे और उनके आज का डिश उनका पसंदीदा सब्जी करेले का भरता था। जिसे बनाने के लिए विधायक मशक्कत कर रहे थे।

बता दें कि विधायक जी पूरे आनन्द लेते हुए फुर्सत से पहले करेले को अच्छे से धोकर उसमें चीरा लगाएं और उसमें मसाले को भरे। फिर उसे धागे से बांधकर करेले को गरम तेल में डालकर फ्राई करने लगे। इस बीच चूल्हे की आग कम ज्यादा हो रही थी, जिसमें फुकनी का सहारा लेकर चूल्हे की तापमान को स्थिर भी कर रहे थे। इसी तरह इस कुकिंग के दौरान उपयोग करने वाले बर्तनों की सफाई भी वे खुद करते रहे। इस संबंध में जब डॉ कृष्णमूर्ति बांधी से टीम ने पूछा कि क्या आप आम दिनों में भी घर का काम करते हैं तो उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि होने के नाते परिवार को समय दे पाना जरा मुश्किल काम होता है। क्योंकि उनका क्षेत्र ही उनका परिवार है, और इतना बड़ा परिवार होने के कारण वे घर में अधिक समय नहीं दे पाते हैं। लेकिन इन दिनों लॉकडाउन होने का भरपूर मजा ले रहें है।

उन्होंने आगे कहा कि जो परिवारिक सुख सदस्यों के साथ रहकर मिलता है। उसका अनुभव स्वयं घर में ही रहकर कर रहे हैं। लिहाजा घर में बनने वाले तमाम पकवान और साफ-सफाई जो उनकी नजर में आती है। इसे वे करने में जुट जाते हैं। हालांकि लॉगडॉउन में घर की कुकिंग और बर्तन की सफाई करते हुए आपने किसी विधायक या बड़े नेता को नहीं देखा होगा। लेकिन लॉकडाउन के दौरान छत्तीसगढ़ के शायद यह पहले विधायक होंगे, जो अपने इस घरेलू कामकाज में जुटे हुए हैं। यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी। लेकिन जितनी जवाबदारी और ईमानदारी के साथ डॉक्टर कृष्णमूर्ति बांधी अपने राजनीतिक जीवन के कर्तव्यों और जनता की सेवा करते हैं। ठीक उसी तरह इन दिनों अपने परिवार की सेवा करने को कटिबद्ध नजर आ रहे हैं।



Next Story