logo
Breaking

माओवादियों ने 31 जनवरी को भारत बंद का किया आह्वान, 25 से 31 तक चलाएंगे प्रचार अभियान

नक्सली संगठन भाकपा माओवादियों ने 31 जनवरी को भारत बंद का आह्वान किया है। छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के बड़गांव थाना इलाके में संदिग्ध माओवादियों ने पर्चा फेंका है। माओवादियों की दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी ने कहा है कि भारत बंद के पहले माओवादी 25 से 31 जनवरी तक प्रचार अभियान चलाएंगे। प्रचार सप्ताह के दौरान सभा, सम्मेलन रैली और आमसभा का आयोजन किया जाएगा।

माओवादियों ने 31 जनवरी को भारत बंद का किया आह्वान, 25 से 31 तक चलाएंगे प्रचार अभियान

नक्सली संगठन भाकपा माओवादियों ने 31 जनवरी को भारत बंद का आह्वान किया है। छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के बड़गांव थाना इलाके में संदिग्ध माओवादियों ने पर्चा फेंका है। माओवादियों की दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी ने कहा है कि भारत बंद के पहले माओवादी 25 से 31 जनवरी तक प्रचार अभियान चलाएंगे। प्रचार सप्ताह के दौरान सभा, सम्मेलन रैली और आमसभा का आयोजन किया जाएगा।

माओवादियों के इस पर्चा में लिखा है कि सरकार देश की प्राकृतिक संपदा, जल-जंगल और जमीन को कौड़ियों के भाव में देशी-विदेशी कॉरपोरेट घरानों के हवाले कर रही है।
इन पर्चों में कहा गया है कि मोदी सरकार के नया भारत का सपना अल्पसंख्यकों को दबाकर हिंदू राष्ट्र निर्माण के नाम पर कश्मीर, असम, नागालैंड में आंदोलन को दबाना है। बस्तर में तैनात सरकारी सुरक्षा बलों पर आऱोप लगाते हुए कहा है कि दंडकारण्य के संघर्ष वाले इलाकों में झूठी मुठभेड़ और नरसंहार किया गया है। पूजारी कांकेर, आइपेंटा, तिम्मेम, कसनसूर नुमिरगुंडा, नुल्कातोंग, गुमियाबेड़ा की जनता की बेदम पिटाई, महिलाओं पर अत्याचार और हत्याओं तथा अवैध गिरफ्तारियों के खिलाफ आवाज बुलंद करने की अपील की है।
पिछले दिनों दंतेवाड़ा में दुरदर्शन के कैमरामेन की बेरहमी से हत्या करने वाले माओवादियों ने लेखकों और पत्रकारों पर हो रहे हमले और हत्याओं के खिलाफ जनता से सड़क पर आंदोलन करने की अपील की है।
हालांकि पुलिस का कहना है कि कुछ हिस्सों में सिमट कर रह गए माओवादी अपनी उपस्थिति दर्शाने के लिए इस तरह पर्चा फेंक रहें हैं। अब इनके साथ नई पीढ़ी के नौजवान नहीं हैं। पुलिस का कहना है कि पर्चा फेंकने वालों की तलाश की जा रही है और इस दिशा में जल्दी ही कार्रवाई होगी।
Share it
Top