Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ग्रीन होम क्लीन होम का संदेश देने...छत पर उगा डाली कई वैरायटी की जैविक सब्जियां

घर की छत पर साग सब्जी उगाना शौक के साथ-साथ समय की जरुरत बन गई है। खेती के घटते रकबे और बढ़ते शहरीकरण के चलते छत पर खेती करना बहुत जरुरी हो गया हैै। आप भी अपने घर की छत पर रसायनयुक्त और पौष्टिकता से भरपूर सब्जियां उगा सकते हैं।

ग्रीन होम क्लीन होम का संदेश देने...छत पर उगा डाली कई वैरायटी की जैविक सब्जियां
X

घर की छत पर साग सब्जी उगाना शौक के साथ-साथ समय की जरुरत बन गई है। खेती के घटते रकबे और बढ़ते शहरीकरण के चलते छत पर खेती करना बहुत जरुरी हो गया हैै। आप भी अपने घर की छत पर रसायनयुक्त और पौष्टिकता से भरपूर सब्जियां उगा सकते हैं।

ताजी, हरी, पौष्टिक और स्वादिष्ट सब्जी भला किसे अच्छी नहीं लगती, लोग इसे मंहगे दामों पर भी खरीदना पंसद करते हैं। मगर यही सब्जी जब आपको घर में मिल जाये, वो भी कम दाम पर तो सोने पर सुहागा होगा। इसके लिए आपको कुछ करने की जरुरत नहीं, बस आप अपनी छत पर अपनी मनपंसद सब्जी उगाना शुरु कर दीजिए। कम लागत में आप जैविक सब्जी तैयार कर सकते हैंं।
Image may contain: one or more people, people standing, plant, outdoor and nature
गरियाबंद जिले के राजिम निवासी रामगुलाल सिन्हा और व्यासनारायण चतुर्वेदी अपने घर की छत पर ही जैविक सब्जियां उगा रहे हैं। रामगुलाल की छत किसी प्रयोगशाला से कम नही है, उनकी छत 18 वैरायटी के टमाटर, 22 वैरायटी के बैंगन, 12 वैरीयटी की सेमी, 21 वैरायटी की मिर्च, लौकी और अन्य दूसरी सब्जियों से भरी पड़ी है।
इतना ही नहीं रामगुलाल सिन्हा अपनी छत पर उगने वाली सब्जियों के बीज दूसरे लोगों को निशुल्क देते हैं। ताकि वह भी आसानी से अपने टेरेस पर सब्ज्यिां लगा सकें। वहीं रायपुर की डॉ. पुष्पा साहू अपनी पुस्तकों और किसान मेलों के माध्यम से लोगों को ग्रीन होम क्लीन होम के लिए प्रेरित कर रही हैं।
Image may contain: plant, flower and nature
छत्सीगढ़ सरकार भी इसमें पीछे नही है, सरकार प्रदेश के 5 बड़े शहरों रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, रायगढ और अंबिकापुर में छत पर खेती करने के लिए लोगों को सब्सिडी में मिनी कीट वितरण कर रही है, ताकि लोगों को छत पर सब्जी उगाने के लिए लगने वाला सामान और बीज आसानी से उपलब्ध हो सके।
छत पर खेती करने से पौष्टिक सब्जी तो उपलब्ध होगी ही साथ ही वातावरण में ऑक्सीजन की मात्रा भी बढ़ेगी। यही नहीं मकान का तापमान भी नियंत्रित रहेगा, इसके आलावा सुबह टहलने के लिए हरा भऱा वतावरण भी घर की छत पर ही उपलब्ध हो जाएगा। वो भी बिना किसी अतिरिक्त लागत या मेहनत के, घर छोटा हो या बड़ा, एक मंजिला हो या बहुमंजिला आप किसी भी घर की छत पर साग सब्जी उगा सकते हैं। जरुरत पड़ने पर समाजसेवी संस्थाओं और कृषि विभाग की मदद भी ले सकते हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story