Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ग्वालियर एयरबेस ने दोहराया 20 साल पहले Tiger Hill का हमला, अनूठे अंदाज में मनाया जश्न

करगिल युद्ध में मिली ऐतिहासिक जीत के आज पूरे 20 साल हो गए। जिसके चलते भारतीय वायुसेना ने ग्वालियर के महाराजपुरा एयरबेस पर 'ऑपरेशन विजय' का बड़े ही अनूठे अंदाज में जश्न मनाया।

ग्वालियर एयरबेस ने दोहराया 20 साल पहले Tiger Hill का हमला, अनूठे अंदाज में मनाया जश्नGwalior Airbase repeates Tiger Hill attack, celebrated in a unique style

ग्वालियर। करगिल युद्ध में मिली ऐतिहासिक जीत के आज पूरे 20 साल हो गए। जिसके चलते भारतीय वायुसेना ने ग्वालियर के महाराजपुरा एयरबेस पर 'ऑपरेशन विजय' का बड़े ही अनूठे अंदाज में जश्न मनाया। महाराजपुरा एयरबेस इंडियन एयरफोर्स के मिराज एयरक्राफ्ट के लिए सबसे बड़ा स्टेशन है। सोमवार के एयर शो में इसी हमले का सीन फिर से क्रिएट कर दिखाया गया।

करगिल युद्ध के दौरान जिस तरह Tiger Hill पर भारतीय सेना को जीत मिली थी। उसे याद करने के लिए एयरबेस पर वैसी ही एक डमी चोटी बनाई गई और युद्ध के दौरान इस्तेमाल हुए लड़ाकू विमानों के जरिए एक बार फिर इस दुर्गम चोटी पर भारतीय सैनिकों ने चढ़ाई की और फिर तिरंगा फहराया। इस दौरान एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ भी मौजूद रहे।

बता दें 20 साल पहले करगिल युद्ध के समय मिराज ने ग्वालियर से उड़ान भरकर तीस हजार फीट की उंचाई से टाइगर हिल पर कब्जा जमाए दुश्मनों पर हमला किया था, जिसमें लेजर गाइडेड बम का इस्तेमाल किया गया था।

करगिल युद्ध के समय ऑपरेशन 'सफेद सागर' में कारगिल की पहाड़ियों में छिपे दुश्मन को मारने की जिम्मेदारी ग्वालियर के महाराजपुरा एयरबेस पर तैनात मिराज स्क्वॉड्रन को सौंपी गई थी। ग्वालियर का महाराजपुरा एयरफोर्स स्टेशन 1942 में बना था और अब तक हुए युद्धों में महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुका है। 1965, 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में इसी एयरफोर्स स्टेशन से लड़ाकू विमानों ने उड़ान भरी थी।

Share it
Top