logo
Breaking

लोकसभा चुनाव 2019 : 10 बजे रुझान, 3-4 बजे पहला नतीजा, सर्टिफिकेट बंटने तक आधी रात

छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव के अंतिम परिणाम प्राप्त करने के लिए सियासी दलों को इस बार देर रात तक इंतजार करना पड़ सकता है। वीवीपीएटी यानी वोटर वेरीफाइड आडिट ट्रेल से निकली पर्चियों के ईवीएम में दर्ज वोटों से मिलान के बाद ही निर्वाचन प्रमाण पत्र जारी किए जा सकेंगे। इसीलिए निर्वाचन आय़ाेग भी मान रहा है कि पहले की तुलना में 3 से 4 घंटे का समय अतिरिक्त लगेगा।

लोकसभा चुनाव 2019 : 10 बजे रुझान, 3-4 बजे पहला नतीजा, सर्टिफिकेट बंटने तक आधी रात

छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव के अंतिम परिणाम प्राप्त करने के लिए सियासी दलों को इस बार देर रात तक इंतजार करना पड़ सकता है। वीवीपीएटी यानी वोटर वेरीफाइड आडिट ट्रेल से निकली पर्चियों के ईवीएम में दर्ज वोटों से मिलान के बाद ही निर्वाचन प्रमाण पत्र जारी किए जा सकेंगे। इसीलिए निर्वाचन आय़ाेग भी मान रहा है कि पहले की तुलना में 3 से 4 घंटे का समय अतिरिक्त लगेगा। आमताैर पर रात 8 बजे तक अंतिम परिणाम जारी कर दिए जाते हैं,

लेकिन इस बार सर्टिफिकेट जारी होते तक आधी रात भी हो सकती है। हालांकि सुबह 8 बजे मतगणना प्रारंभ होने के बाद 10 बजे से ही रुझान आने प्रारंभ हो जाएंगे। दोपहर 3 से 4 बजे नतीजों की शुरूआत हो सकती है। ईवीएम की गिनती पूरी होने के बाद वीवीपीएटी की पर्चियों का ईवीएम के परिणामों से मिलान किया जाएगा। इस प्रक्रिया में अधिक प्रत्याशियों वाले स्थानाें पर देर से नतीजे सामने आएंगे।

मतगणना के लिए ट्रेनिंग

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने शुक्रवार को सभी जिलों के कलेक्टरों, उपजिला निर्वाचन अधिकारियों की बैठक ली। इस दाैरान उन्हें मतगणना की बारीकियों की जानकारी दी। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने सुब्रत साहू ने बताया कि गणना में शामिल होने वाले अधिकारियों को सभी आवश्यक जानकारी दी गई है। शांतिपूर्ण तरीके से मतगणना संपन्न हो, इसके लिए सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। जिला और लोकसभा मुख्यालयों में मतगणना के लिए ट्रेनिंग दे दी गई है। साथ ही सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। अब तक मतदान की प्रक्रिया शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुई है और अब मतगणना भी शांतिपूर्ण ढंग से होगी। वीवीपीएटी की वजह से परिणाम में अधिक समय लगने के सवाल पर उन्होंने कहा, इस बार पांच वीवीपीएटी की पर्चियों की गिनती की जाएगी, इसलिए अधिक समय लग सकता है।

पहले डाक मतों की गिनती

मतगणना शुरू होने के पहले एक घंटे यानी सुबह 9 बजे तक डाक मतों की गिनती कर ली जाएगी। इसके बाद स्ट्रांग रूम से ईवीएम को गणना स्थल में लाकर ईवीएम से गिनती प्रारंभ होगी। एक घंटे बाद यानी सुबह 10 बजे तक रुझान सामने आ जाएगा। इसके बाद हर चरण में निर्वाचन आयाेग द्वारा परिणामों की जानकारी दी जाएगी। आयाेग के एप और वेबसाइट्स में भी इन नतीजों को देखा जा सकेगा। दोपहर बाद परिणाम आने की शुरूआत हो जाएगी, लेकिन निर्वाचन प्रमाण पत्र लेने के लिए अभ्यर्थियों को देर रात तक रूकना पड़ सकता है।

कर्मचारियों की संख्या बढ़ेगी

पिछले चुनाव में सिर्फ एक वीवीपीएटी की पर्चियों का मिलान ही ईवीएम से किया जाता था। इस प्रक्रिया में अतिरिक्त कर्मचारियों की जरूरत नहीं होती थी और कुछ ही समय में प्रक्रिया पूरी कर ली जाती थी। इस बार सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद निर्वाचन आयाेग पांच वीवीपीएटी की पर्चियों का मिलान करने जा रहा है। इसलिए अतिरिक्त कर्मचारियों की ड्यूटी भी लगाई गई है। इसके लिए सभी गणना कक्षाें में 14 टेबल के साथ एक अतिरिक्त टेबल लगाकर उसमें वीवीपीएटी की पर्चियों का ईवीएम के नतीजों से मिलान की व्यवस्था की जा रही है।

करना पड़ सकता है लंबा इंतजार

लोकसभा चुनाव के नतीजे आमतौर पर शाम होते-होते आने लगते हैं। इस बार भी संभवत: बस्तर का नतीजा सबसे पहले शाम चार बजे तक आ सकता है। लेकिन बाकी लोकसभा क्षेत्रों के नतीजे देरी से आ आने की संभावना है। उसकी वजह वीवीपीएटी से मिलान की वजह से है। जब तक मतों का मिलान नहीं होगा तब तक नतीजों का अधिकारिक ऐलान नहीं किया जाएगा। मिलान और सभी की अनापत्ति के बाद ही नतीजे घोषित होने और सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा। उसमें समय लग सकता है।

Share it
Top