Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

LOCKDOWN : पुलिस की वर्दी में 2 लोगों ने जमकर मचाया उत्पात, रतनपुर पुलिस ने किया गिरफ्तार

दोनों आरोप में से एक खुद को एसआई और दूसरे ने सिपाही बता रहे थे। पढ़िए पूरी खबर-

LOCKDOWN : पुलिस की वर्दी में 2 लोगों ने जमकर मचाया उत्पात, रतनपुर पुलिस ने किया गिरफ्तार
X

कोटा। रतनपुर क्षेत्र के खैरा में दो कथित पुलिसकर्मियों ने जमकर उत्पात मचाया। आखिरकार जब ग्रामीणों के सब्र का बांध टूट गया तो लोगों ने पकड़कर उन्हें पुलिस के हवाले कर दिया। रतनपुर पुलिस कथित रूप से बिलासपुर एसपी ऑफिस में कार्यरत पुलिस को पकड़ कर ले गई। रतनपुर के पास मौजूद खैरा में सोमवार शाम को दो व्यक्ति कार में सवार होकर पहुंचे इसमें से एक ने खुद को एसआई और दूसरे ने सिपाही बताया।

यह दोनों एक दूसरे को तिवारी और उपाध्याय कहकर संबोधित कर रहे थे। इनमें से एक ने पुलिस की वर्दी पहन रखी थी इसलिए लोग भी इनके पुलिसकर्मी होने को लेकर संशय में थे, लेकिन तिवारी और उपाध्याय ने ग्रामीणों को बताया कि वे बिलासपुर एसपी ऑफिस से वहां पहुंचे हैं। इसके बाद तो दोनों ने जो तमाशा किया उससे ग्रामीणों की खीझ बढ़ती चली गई। सबसे पहले इन लोगों ने श्रीकांत नाम के एक युवक का शर्ट फाड़ दी और फटी हुई शर्ट से वे अपनी गाड़ी पोंछने लगे। इसके बाद दोनों ने गांव के ही एक अन्य युवक प्रीतम का मोबाइल लूट लिया। जब प्रीतम की मां मौके पर पहुंच कर हंगामा मचाने लगी तो किसी तरह दोनों ने प्रीतम को उसका मोबाइल वापस किया। इसके बाद एक और ग्रामीण जयसवाल का इन लोगों ने कॉलर पकड़ लिया और उसके साथ भी विवाद किया। रतनपुर क्षेत्र में संचालित कृष्णा ट्रेडर्स के ट्रक को भी इन्होंने रोका और पूछताछ के नाम पर चालक से सारे दस्तावेज जबरन लूट लिये और उसे वापस तक नहीं किया। दोनों गांव में घूम-घूम कर सबसे विवाद करते रहे। खुद को पुलिसकर्मी बताकर ग्रामीणों पर रौब झाड़ते इन लोगों ने लॉकडाउन का पालन नहीं करने के नाम पर खूब हंगामा किया।

इसके बाद वे राम दुलारी नाम के एक व्यक्ति को अपने साथ गाड़ी में बिठा कर पचरा के पीछे ले गए, जहां दोनों ने जबरन उससे खरीदवाकर जमकर महुआ शराब पिया। शराब के नशे में आकर दोनों फिर से ग्रामीणों के साथ मारपीट करने लगे। इन दोनों की हरकतों से ग्रामीणों को संदेह हुआ। लिहाजा उन दोनों को पकड़कर रतनपुर पुलिस को सूचना दी गई, जिसके बाद रतनपुर थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे और दोनों की कुंडली खंगाली जाने लगी।

बताया जा रहा है कि रतनपुर पुलिस ने ग्रामीणों को बताया कि यह दोनों बिलासपुर आईजी कार्यालय में कार्यरत है। लेकिन जब मीडिया ने रतनपुर पुलिस से इस बात की तस्दीक करनी चाही तो रतनपुर पुलिस ने चुप्पी साध ली। इधर ग्रामीणों ने पूरे घटनाक्रम की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया है।

जिसके बाद बिलासपुर से लेकर रतनपुर तक हंगामा मच गया। खैरा में उत्पात मचाने वाले यह दोनों सचमुच पुलिसकर्मी है या फिर फर्जी पुलिस वाले बनकर लोगों को सता रहे थे, फिलहाल रतनपुर पुलिस इस बारे में कुछ भी कहने से बच रही है। इस मामले में अब तक पुलिस ने कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है।

Next Story