Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कागजातों की कमी से बढ़ी लाइसेंस केंद्र की परेशानी, रोज 30 अधूरे आवेदन

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने और रीन्यू कराने वालों की तादाद बढ़ने के साथ ही अधूरे फार्म लेकर लाइसेंस केंद्रों पर पहुंचने वालों की संख्या भी बढ़ गई है। रोज 30 से 40 आवेदन ऐसे पहुंचते हैं, जो लर्निंग, रीन्यू या फिर परमानेंट लाइसेंस बनवाने ऑनलाइन आवेदन करते हैं।

कागजातों की कमी से बढ़ी लाइसेंस केंद्र की परेशानी, रोज 30 अधूरे आवेदन

रायपुर। ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने और रीन्यू कराने वालों की तादाद बढ़ने के साथ ही अधूरे फार्म लेकर लाइसेंस केंद्रों पर पहुंचने वालों की संख्या भी बढ़ गई है। रोज 30 से 40 आवेदन ऐसे पहुंचते हैं, जो लर्निंग, रीन्यू या फिर परमानेंट लाइसेंस बनवाने ऑनलाइन आवेदन करते हैं। उनका ऑनलाइन आवदेन के समय प्रक्रिया पूरी बताता है, लेकिन लाइसेंस केंद्रों के कंप्यूटर पर दिखाई नहीं देता। कतार में लगे आवेदकों की बारी आती है, तो उनके आवेदन में खामियां मिलने पर काम नहीं होता। नतीजतन, उनको आवेदन पूरा करने दोबारा आने को कहा जाता है। इससे नाराज होकर आवेदक हंगामा भी करने पर आमादा हो जाते हैं। दरअसल, लाइसेंस बनवाने के लिए ऑनलाइन आवेदन भरते समय आवेदक अपने दस्तावेज का मोबाइल से फोटो खींचकर अपलोड कर देते हैं। इससे ऑनलाइन प्रक्रिया पूरा हो जाता है, लेकिन वह वाहन-4 साफ्टवेयर पर दिखाई नहीं देता। इससे ना सिर्फ आवेदक परेशान होते हैं, बल्कि लाइसेंस केंद्राें के स्टॉफ भी परेशान हो जाते हैं।

इतने रोज बन रहे लाइसेंस

नए ट्रांसपोर्ट एक्ट बनने के बाद अचानक ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वालों की भीड़ बढ़ गई है। जहां पहले 100 से 150 लर्निंग, रीन्यू और परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनते थे, वहीं अब यह संख्या 400 से अधिक हो गई है। इनमें 250 से अधिक आवेदन लर्निंग लाइसेंस बनवाने वालों के रहते हैं। वहीं, रीन्यू और परमानेंट मिलाकर 150 आवेदन रहते हैं।

पहले की तुलना में बढ़ी

लाइसेंस बनवाने वालों की संख्या पहले की तुलना में बढ़ी है। कई लोग अधूरे फार्म लेकर आते हैं, उनको सुधार कर बाद में आने की सलाह दी जाती है।

- सुषमा एक्का, सब इंस्पेक्टर, ड्राइविंग लाइसेंस केंद्र

लाइसेंस रीन्यू की बढ़ी संख्या

अफसरों के मुताबिक नए ट्रांसपोर्ट एक्ट में ड्राइविंग लाइसेंस रीन्यू की अवधि बढ़ने और कमर्शियल लाइसेंस की समयावधि बढ़ाए जाने के बाद रीन्यू कराने वालों की संख्या बढ़ गई है। पहले रोज करीब 10 से 20 ड्राइविंग लाइसेंस रीन्यू कराने का आवेदन आता था, लेकिन हफ्तेभर से यह संख्या 40 से 50 पहुंच गई है। रोज लाइसेंस रीन्यू की औपचारिकता पूरी कर लाइसेंस जारी किया जाता है।

Next Story
Share it
Top