Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लाख की खेती से पूरा हुआ लखपति बनने का सपना सात गुना बढ़ी आमदनी

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कांकेर जिले के चारामा विकासखण्ड के तिरकादण्ड गांव के किसान पुरूषोत्तम मंडावी के लखपति बनने के सपने को लाख की खेती ने पूरा किया है।

लाख की खेती से पूरा हुआ लखपति बनने का सपना सात गुना बढ़ी आमदनी
रायपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कांकेर जिले के चारामा विकासखण्ड के तिरकादण्ड गांव के किसान पुरूषोत्तम मंडावी के लखपति बनने के सपने को लाख की खेती ने पूरा किया है। तीन वर्ष पूर्व तक अपनी पांच एकड़ पैतृक भूमि पर परंपरागत रूप से धान की खेती कर प्रति वर्ष 60 से 70 हजार रुपए की आमदनी लेने वाले मंडावी कृषि विज्ञान केन्द्र कांकेर के मार्गदर्शन में लाख की खेती कर आज प्रति वर्ष पांच लाख रुपए से अधिक की आय प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने अपनी नवाचारी सोच, हौसले और जज़्बे से लखपति बनने के सपने को साकार कर दिखाया है। कृषि के क्षेत्र में उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों को देखते हुए छत्तीसगढ़ शासन द्वारा मंडावी को कृषक समृद्धि सम्मान 2017 से सम्मानित किया गया है।

उत्पादन के लिए हुए प्रेरित

तिरकादण्ड के युवा किसान पुरूषोत्तम मंडावी ने कुछ वर्ष पहले अपनी पांच एकड़ पैतृक जमीन पर धान की परंपरागत विधि से खेती करना शुरू किया। खेत पर सिंचाई सुविधा उपलब्ध ना होने के कारण वे साल में केवल एक ही फसल ले पाते थे जिससे उन्हें लगभग 70 हजार रुपए की आय होती थी। उनके श्रम और समय की लागत के हिसाब से यह खेती फायदे का सौदा नहीं थी। कृषि विज्ञान केन्द्र कांकेर के संपर्क में आने के बाद मंडावी अपने खेतों में लाख उत्पादन के लिए प्रेरित हुए।

सेमियालता के लगाए पौधे

उन्होंने वर्ष 2015-16 में प्रायोगिक तौर पर एक एकड़ क्षेत्र में सेमियालता के पौधे लगाकर उन पर लाख के कीड़े पाल कर लाख उत्पादन शुरू किया। पहले वर्ष में पांच क्विंटल लाख का उत्पादन हुआ, जिससे उन्हें एक लाख रुपए की आमदनी हुई। शेष चार एकड़ खेत में धान की फसल से लगभग 60 हजार रुपए की आय प्राप्त हुई। लाख उत्पादन की सफलता से प्रेरित हो कर उन्होंने वर्ष 2016-17 में चार एकड़ क्षेत्र में सेमियालता के पौधे लगाकर लाख उत्पादन किया और केवल एक एकड़ क्षेत्र में धान की फसल ली।

अन्य किसानों के लिए प्रेरणास्रोत

इस वर्ष 26 क्विंटल लाख उत्पादन हुआ, जिससे उन्हें पांच लाख 20 हजार रुपए आय हुई, जबकि धान की फसल से 20 हजार रुपए की आमदनी हुई। इस प्रकार लाख की खेती अपनाने से मंडावी की आय में 6 से 7 गुना इजाफा हुआ। लाख की खेती ने मंडावी की जिंदगी ही बदल दी। आज वे क्षेत्र के अन्य किसानों के लिए प्रेरणास्रोत बन गए हैं
Next Story
Share it
Top