Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

छत्तीसगढ़ : 'आधी आबादी' की शानदार नुमाइंदगी का उदाहरण बना अपना कोरिया

'तेरे माथे पे ये आंचल तो बहुत ही ख़ूब है लेकिन तू इस आंचल से इक परचम बना लेती तो अच्छा था ...' मशहूर शायर मजाज लखनवी के इन लफ्जों का जवाब दे रही हैं ये महिलाएं। पढ़िए पूरी खबर-

छत्तीसगढ़ :

कोरिया। जिले में महिलाएं समाज में अपनी अलग पहचान बना रही हैं। वे महिला सशक्तिकरण के साथ-साथ आधी आबादी के सपनों को पूरा कर रही हैं। कोरिया जिले में महिलाएं न केवल अपने घर की जिम्मेदारियों को बखूबी निभा रही हैं, बल्कि घरों से निकलकर राजनीति और प्रशासन में भी अपनी क्षमता का लोहा मनवा रही है।

जिले में प्रशासनिक तौर पर अपनी कार्यशैली से विकास की नई इबारत लिख रही महिलाओं में जिला पंचायत में मुख्य कार्यपालन अधिकारी के पद पर पदस्थ तूलिका प्रजापति का नाम सबसे पहले आता है। जिन्होंने प्रशासनिक पकड़ का लोहा मनवाया है।

डिप्टी कलेक्टर का पद संभाला रही नयनतारा तोमर भी प्रशासनिक कामकाज बेहतर सम्भाल रही हैं। जिले के इकलौते नगर निगम में आयुक्त जैसी बड़ी जिमेदारी को सुमन राज बखूबी निभा रही हैं। जिले के प्रशासनिक पदों पर जहां महिलाएं अपनी क्षमता का परिचय दे रही हैं तो वहीं राजनीति में भी महिलाओं का दबदबा किसी से छुपा नहीं है। इन पदों पर पुरुषों का वर्चस्व होता था लेकिन जिले में महिला सशक्तिकरण की दिशा में उठाए गए कदम की सफलता का ही परिणाम है कि यहां जिला पंचायत अध्यक्ष के रूप में रेणुका सिंह को कमान संभालने का अवसर मिला है।

बैकुंठपुर की विधायक अंबिका सिंहदेव हैं जो अपनी राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ा रही हैं। जिले के 5 जनपदों में से 4 जनपदों में अध्यक्ष की कमान महिला के हाथों में है। इसके अलावा नगर निगम की बात करें, तो यहां भी महापौर के रूप में कंचन जायसवाल और सभापति के रूप में गायत्री बिरहा की जोड़ी देखते ही बनती है।

तीसरी बार नगर पालिका परिषद अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित हुईं प्रभा पटेल ने कार्यकाल में विकास के लिए कई काम किए। इस पंचवर्षीय में भी इस शहर की जनता को उनसे काफी उम्मीदें हैं।

अब महिलाएं अपने घर की चौखट से निकल कर एक और जहां राजनीति के क्षेत्र में निष्ठा के साथ कार्य कर राजनीति में शुचिता लाने का प्रयास कर रही हैं, वहीं दूसरी ओर प्रशासनिक कामकाज में भी महिलाओं का बढ़ता दखल भी महिला सशक्तिकरण को आगे बढ़ा रहा है।

शहरी सत्ता में इनका राज

जिले की शहरी सत्ता में भी महिलाओं की दखलंदाजी देखते ही बनती है। जिले के इकलौते नगर निगम चिरमिरी के तीनों महत्वपूर्ण पदों पर भी महिलाओं का कब्जा है। 38 वर्षीय बीएससी स्नातक कंचन जायसवाल यहां महापौर हैं तो गायत्री बिरहा यहां दूसरी बार सभापति बनी है। वहीं आयुक्त के पद पर भी राज्य प्रशासनिक सेवा 2016 बैच की अफसर सुमन राज पदस्थ हैं। मनेन्द्रगढ़ नगरपालिका में भी अध्यक्ष पद पर प्रभा पटेल तीसरी बार अध्यक्ष बन कर राजनीति में महिलाओं की जबरदस्त दखलंदाजी दिखा रही है। नगर पंचायत नई लेदरी में भी अध्यक्ष का ताज महिला के सर पर सुशोभित हो रहा है। यहां सरोज यादव अध्यक्ष हैं।

नुमाइंदगी की मिसाल पेश करने वाली आधी आबादी की फ़ेहरिस्त

  • अम्बिका सिंहदेव, विधायक
  • रेणुका सिंह, अध्यक्ष जिला पंचायत
  • कंचन जायसवाल, महापौर चिरमिरी
  • गायत्री बिरहा, सभापति चिरमिरी
  • प्रभा पटेल, अध्यक्ष नपा मनेन्द्रगढ़
  • सरोज यादव, अध्यक्ष नप नई लेदरी
  • सौभाग्यवती सिंह, जनपद अध्यक्ष बैकुंठपुर
  • आशा साहू, उपाध्यक्ष जनपद बैकुंठपुर
  • लल्ली सिंह, जनपद अध्यक्ष सोनहत
  • सोनमती कुर्रे, जनपद अध्यक्ष खड़गवां
  • राजकुमारी बैगा, जनपद अध्यक्ष जनकपुर
  • तूलिका प्रजापति, सीईओ जिला पंचायत
  • सुमन राज, आयुक्त नगर निगम
  • ऋचा सिंह, तहसीलदार बैकुंठपुर
  • नयनतारा तोमर, डिप्टी कलेक्टर
  • ज्योतसना टोप्पो, सीएमओ नगर पालिका


मैं तो कई वर्षों से राजनीति में सक्रिय हूं। पहले बहुत कम महिलाएं राजनीति में आती थीं, अब राजनीति में महिलाओं की बढ़ती भागीदारी को देखकर खुशी होती है।

- प्रभा पटेल, नपाध्यक्ष


जिले में ज्यादातर पदों पर महिलाएं कार्य कर रही हैं। महिलाओं के लिए ये खुशी की बात है। महिला अफसर के साथ नगर निगम में महिला जनप्रतिनिधियों के होना बेहतर है।

- सुमन राज, आयुक्त नगर निगम


महिलाओं की प्रशासनिक क्षेत्र में बढ़ती भागीदारी से खुशी होती है। अच्छा लगता है जब किसी बड़े पद को कोई महिला सुशोभित करती है।

- नयनतारा तोमर, डिप्टी कलेक्टर


जब से मैं जिला पंचायत सीईओ पद पर पदस्थ हूं, महिला अध्यक्ष के साथ ही काम कर रही हूं। महिला जनप्रतिनिधि के साथ साथ महिला अफसर के होने से कामकाज में बेहतर सामंजस्य बनता है।

- तूलिका प्रजापति, सीईओ


महिलाओं को घर के कामकाज के साथ ही सामाजिक जिम्मेदारी निभाने के बाद अब राजनीतिक जिम्मेदारी निभाते देख खुशी होती है। मैं चाहूंगी महिलाएं अधिक संख्या में राजनीति में आएं।

- कंचन जायसवाल, महापौर



Next Story
Top