logo
Breaking

कांशीराम के नाम पर हो जांजगीर जिले का नाम, भारतरत्न भी दे सरकार, जोगी ने मोदी को पत्र लिखकर फेंका सियासी दाँव

जोगी कांग्रेस सुप्रीमो अजीत जोगी ने चुनाव के ठीक पहले आज प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिख कर बड़ा सियासी दाँव खेला है. जोगी ने प्रधानमंत्री से मांग किया है कि कांशीराम को भारत रत्न देने की मांग की है.

कांशीराम के नाम पर हो जांजगीर जिले का नाम, भारतरत्न भी दे सरकार, जोगी ने मोदी को पत्र लिखकर फेंका सियासी दाँव

जोगी कांग्रेस सुप्रीमो अजीत जोगी ने चुनाव के ठीक पहले आज प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिख कर बड़ा सियासी दाँव खेला है. जोगी ने प्रधानमंत्री से मांग किया है कि कांशीराम को भारत रत्न देने की मांग की है. इसके अलावा उन्होंने जांजगीर जिले का नाम भी कांशीराम के नाम पर रखने का आग्रह किया है.

अजीत जोगी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को लिखे पत्र में कहा है कि देश के बहुजन समाज के महानायक, कांशीरामजी जो देश के सबसे बड़े सम्मान और पुरस्कार भारत रत्न से अलंकृत किया जाना चाहिये.
वहीं उनकी कर्मभूमि जांजगीर जिला का नाम को कांशीराम जी के नाम पर किया जाये। जोगी ने कहा है कि समाज के दबे, कुचले, पिछड़े , शोषितों के नेता, बहुजन नायक कांशीराम एक व्यक्ति नही बल्कि एक विचारधारा थे। उनकी विचारधारा दलगत राजनीति से नही बल्कि देश नीति से जुड़ी है।
बहुजन समाज के आर्थिक और सामाजिक विकास में उनका योगदान अतुलनीय, अद्वितीय एवं अविस्मरणीय है। ऐसे महापुरुष की विचारधारा युगों युगों तक देश की आने वाली पीढ़ी के विचारों में समाहित हो एवं देश में सामाजिक सामानता का उदहारण बन सके इस हेतु मान्यवर कांशीराम जी को ‘भारत रत्न’ की उपाधि से अलंकृत कर उन्हें देश के सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित किया जाए।
साथ ही, कांशीराम जी की कर्मभूमि रही छत्तीसगढ़ के जांजगीर जिले का नाम कांशीराम जी के नाम से करते हुए एवं मान्यवर कांशीराम जी से जुड़ी छत्तीसगढ़ के लोगों की भावनाओं का सम्मान किया जाए।
अजीत जोगी ने अपने पत्र में कहा है कि समाचार पत्रों से ज्ञात हुआ की 22 सिंतबर को प्रधानमंत्री मंत्री मोदी जांजगीर जिले के प्रवास पर आ रहे हैं इस दौरान दो मांगों पर गौर करने एवं अपने छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान इसकी घोषणा करेंगे।
विधानसभा चुनाव से ठीक पहले जोगी ने बहुजन समाज को लुभाने के लिए यह सियासी दाँव फेंका है इसे लेकर अब चर्चाओं का दौर भी शुरू हो गया है. राज्य में बहुजन समाज का एक बड़ा वर्ग भी है जो कई सीटो पर अपना प्रभुत्व कायम किये हुए है और कई स्थानों पर ये हार जीत भी तय करते है.
Share it
Top