logo
Breaking

मड़वा विद्युत संयंत्र को अटल जी का नाम देना उचित नहीं : कांग्रेस

रायपुर / भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी के कारण दागदार मड़वा संयंत्र को अटल जी का नाम देना उचित नहीं कांग्रेस ने कहा मड़वा ताप विद्युत संयंत्र का नाम अटल संयंत्र रखे जाने के रमन सिंह सरकार के निर्णय का कांग्रेस ने विरोध किया है। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है

मड़वा विद्युत संयंत्र को अटल जी का नाम देना उचित नहीं : कांग्रेस
रायपुर / भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी के कारण दागदार मड़वा संयंत्र को अटल जी का नाम देना उचित नहीं कांग्रेस ने कहा मड़वा ताप विद्युत संयंत्र का नाम अटल संयंत्र रखे जाने के रमन सिंह सरकार के निर्णय का कांग्रेस ने विरोध किया है। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि 1000 किलोवाट का मड़वा प्रोजेक्ट आज हिन्दुस्तान का सबसे महंगा प्रोजेक्ट है जहां प्रति मेगावाट लागत 10 करोड़ है जबकि विद्युत उत्पादन संयंत्र की औसत लागत 5 करोड़ रू. प्रति मेगावाट होती है। मड़वा पावर प्लांट की प्रोजेक्ट कास्ट वर्ष 2010 में 5000 करोड़ रू. थी जिसे वर्ष 2012 तक पूर्ण होना था लेकिन भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी के चलते इसकी लागत बढ़कर 10,000 करोड़ रू. तक पहुंच चुकी है और अभी भी निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हुआ है।
500-500 मेगावाट के दो यूनिट में से एक यूनिट में भी बिजली का उत्पादन ही ठीक से नहीं हो पा रहा है। मड़़वा प्रोजेक्ट में हुए भ्रष्टाचार, आपराधिक लापरवाही एवं अनियमितताओं के लिये दोषियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही करने के बजाय भाजपा सरकार ने इसी मड़वा संयंत्र का नामकरण पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखने का निर्णय लिया है। कांग्रेस का स्पष्ट कहना है कि भाजपा सरकार द्वारा स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर ऊर्जा विभाग के घोटालों, कमीशनखोरी और अनियमितताओं के चलते दागदार हुये मड़वा संयंत्र का नाम रखना अटल जी की गरिमा और सम्मान के अनुरूप नहीं है।
Share it
Top