logo
Breaking

छत्तीसगढ़/ थाईलैंड से लौटकर सूपेबेड़ा पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि राज्य में यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम जल्द ही लागू की जाएगी। राज्य में यूनिवर्सल हेल्थ केयर स्कीम शासकीय सेक्टर में ही लागू होगी।

छत्तीसगढ़/ थाईलैंड से लौटकर सूपेबेड़ा पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि राज्य में यूनिवर्सल हेल्थ स्कीम जल्द ही लागू की जाएगी। राज्य में यूनिवर्सल हेल्थ केयर स्कीम शासकीय सेक्टर में ही लागू होगी।

थाईलैंड से लौटकर किडनी की बीमारी से ग्रस्त ग्राम सूपेबेड़ा का दौरा करने के बाद लौटे सिंहदेव ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान थाईलैंड के दौरे के संबंध में बताया कि वहां के लोग सरकार से यूनिवर्सल हेल्थ केयर की उम्मीद रखते हैं। वहां हेल्थ सेक्योरिटी आर्गेनाइजेशन कानून बनाकर स्वास्थ्य सेवा का संचालन किया जा रहा है। हर एक व्यक्ति का डाटा एक केंद्र में है। उन्होंने बताया कि थाईलैंड में 75 प्रतिशत आबादी के लिए यह स्कीम अपनाई जाती है।
उन्होंने कहा कि राज्य में यूनिवर्सल हेल्थ केयर स्कीम शासकीय सेक्टर में ही लागू होगी। यहां जब मरीजों का इलाज नहीं हो पाएगा, तब निजी अस्पतालों में प्रकरण भेजे जाएंगे। राज्य में अस्पतालों में बेसिक स्ट्रक्चर नहीं होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसके लिए निचले स्तर पर मितानिनों से यह प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में विभाग के अफसरों की बैठक लेकर पूरी योजना को सुनिश्चित करेंगे।
उन्होंने कहा कि बीमा आधारित स्कीम को लेकर राज्य सरकार पहले प्रीमियम देती है। इसके आधार पर ही इलाज की सुविधा मिलती है। उन्होंने बताया कि यूनिवर्सल स्वास्थ्य योजना में 300 करोड़ से ज्यादा का खर्च नहीं आएगा। उन्हाेंने कहा कि सरकारी अस्पतालों में पूरी सुुविधा उपलब्ध कराने पर जोर होगा। कांग्रेस निःशुल्क स्वास्थ्य के वादे को जल्द पूरा करेगी।
आयुष्मान की गिनाई खामियां
सिंहदेव ने कहा कि आयुष्मान में मरीज को ओपीडी में आने पर इसका लाभ नहीं मिलता। जब वह अस्पताल में भर्ती होता है, तभी उसे इसका लाभ मिलना शुरू होता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए 11 सौ रुपए का प्रीमियम बीमा कंपनी को देना होता है। इसमें राज्य सरकार 440 रुपए और केंद्र 660 रुपए का योगदान देती है।
सूपेबेड़ा में सब हेल्थ सेंटर खोलेंगे
गरियाबंद जिले के सूपेबेड़ा का स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव और पीएचई मंत्री रुद्र कुमार गुरु ने दौरा किया। स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने यहां के ग्रामीणों से मुलाकात की।
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि यहां पर सब हेल्थ सेंटर का काम जल्द से जल्द शुरू किया जाएगा। उनको इलाज के लिए शहरों की ओर आना नहीं पड़ेगा। सूपेबेड़ा के किडनी प्रभावित लोगों के सवाल पर उन्होंने कहा कि विश्वास की कमी ज्यादा है। लोग जांच कराना नहीं चाहते। तंत्र से विश्वास उठ गया है, ये तंत्र की कमी है। लोग पोस्टमार्टम तक नहीं कराना चाहते हैं।
सूपेबेड़ा के लोगों का कहना है कि पानी का स्तर वहां तक पहुंच गया है, जहां फ्लोराइड है। यह अलेक्जेड्राइड के लिए 2005 में ब्लास्ट करने की वजह से हुआ है।
सिंहदेव ने बताया कि वर्ष 2005 से ग्रामीणों में यह बीमारी बढ़ी है, लेकिन इसके पीछे के कारण अभी तक सामने नहीं आए हैं।
तेल नदी का पानी लाएंगे गांव
पीएचई मंत्री गुरु रुद्र कुमार ने कहा कि तेल नदी का पानी गांव तक लाया जाएगा। इससे ग्रामीणों को स्वच्छ पेयजल मिलेगा। इस बीमारी का कारण भी प्रदूषित जल को ही माना जा रहा है। वहीं ग्रामीणों का मानना है कि अगर ऐसा होता है तो उनकी एक बड़ी समस्या हल हो जाएगी।
Share it
Top