logo
Breaking

सौर पंप लगा तो किसान बंजर जमीन में कर रहे खेती, सब्जियां उगा कमा रहे हजारों

छत्तीसगढ़ सरकार की सौर सुजला योजना से राज्य किसानों की तकदीर तेजी से बदल रही है।

सौर पंप लगा तो किसान बंजर जमीन में कर रहे खेती, सब्जियां उगा कमा रहे हजारों

छत्तीसगढ़ सरकार की सौर सुजला योजना से राज्य किसानों की तकदीर तेजी से बदल रही है। बैकुंठपुर और गरिअयाबंद में जिन किसानों ने पैसों की कमी और पानी की व्यवस्था नहीं होने से अपने खेतों में सिंचाई करने की कल्पना नहीं की थी, सौर सुजला योजना से अब उनके खेत में सोलर पम्प की स्थापना से भरपूर सिंचाई हो रही है और फसल लहलहा रही है।

कम बारिश की स्थिति में सौर सुजला योजना किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है। बहुत ही कम हितग्राही अंशदान से इन पंपों की स्थापना सौर सुजला योजना के अंतर्गत की जा रही है। अब किसानों को सिंचाई के लिए बिजली कनेक्शन की आवश्यकता नहीं है, और न ही बिजली की उपलब्धता पर निर्भरत होंगे।
किसान मात्र 15,000/- के खर्च पर सौर सुजला योजना के अंतर्गत 03 एचपी का सोलर पंप लगवा रहे हैं। सोलर पंप लगने से सिंचाई के लिये किसान अब आत्मनिर्भर हो रहे हैं। उनका मानना है कि यह योजना किसानों के लिये किसी वरदान से कम नहीं है। इतना ही नहीं किसानों की कमाई भी कई गुना बढ़ गई है।

सुजला सौर योजना ने पानी की समस्या ही खत्म कर दी

विकासखण्ड देवभोग के ग्राम कुम्हडईकला के किसान शेषमल गिरीराज और तुलसीदास पात्रा पहले सिंचाई साधन उपलब्ध नहीं होने के कारण जमीन होते हुए भी फसल नहीं ले पाते थे। सौर सुजला ने उनकी सिंचाई समस्या खत्म कर दी। अब दोनों किसानों के यहां सौर सुजला योजना के तहत सोलर पंप लग चुका है और अब वे सोलर पंप के पानी का उपयोग कर सब्जी का उत्पादन कर रहे हैं। पंप लगने के बाद करीब 3-3 एकड़ जमीन पर बैंगन, भिंडी और उड़द का फसल ले रहे हैं। शेषमल ने बताया कि सोलर पंप से सिंचाई की बदौलत आज उनकी प्रतिमाह आमदनी कई गुना बढ़ गई है।

सोलर सिंचाई पंप से साढ़े तीन एकड़ बंजर भूमि में खेती

बैकुण्ठपुर के ग्राम डुमरिया के किसान सहेबा राम की जिंदगी सुजला योजना ने बदल दी। उन्होंने बतया कि कुछ साल पहले अपने खेत में विद्युत कनेक्शन के लिए आवेदन दिया था। ज्यादा लागत होने की वजह से उसके खेत में बिजली नहीं पहुॅच पाई। फिर सौर सुजला योजना के तहत सोलर पंप के लिए आवेदन दिया।
क्रेडा विभाग ने मात्र 15 हजार में उसके खेत में तीन एचपी का सोलर सिंचाई पंप लगा दिया। सोलर पंप लगने के बाद साढे़ तीन एकड़ बंजर भूमि में सिंचाई कर बैंगन, टमाटर, मटर आदि की खेती करने से काफी मुनाफा हो रहा है। सौर सुजला योजना के तहत सोलर पम्प लगने से काफी खुश हूं।

गरियाबंद जिले का नाम राज्य में पहले स्थान पर

किसानों की आय को बढ़ाने में क्रेडा द्वारा संचालित सौर सुजला योजना एक सफल और कारगर योजना है। यह योजना किसानों के लिये वरदान की तरह है। गरियाबंद जिले में सौर सुजला योजना के तहत अभी तक कुल 2456 किसानों को सोलर पंप बांटे जा चुके हैं और सभी सोलर पंप उपयोग में आ रहे हैं। गरियाबंद जिले में सौर सुजला योजना के प्रथम चरण में 700 सोलर पंप स्थापना का लक्ष्य रखा गया था, पर लक्ष्य से अधिक 1019 सोलर पंपों की स्थापना जिले में की गई है। इस प्रकार सोलर पंप स्थापना की दृष्टि से गरियाबंद जिले का नाम राज्य में ‘प्रथम‘ स्थान पर है।
Share it
Top