Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पूर्व नक्सली कमांडर वेट्टी रामा​ जिन इलाकों में फहराता था काला झंडा, 72 साल बाद उन्हीं गांवों में पहली बार किया ध्वजारोहण

छत्तीसगढ़ सुकमा जिले के घोर नक्सल प्रभावित ग्राम बंडा पहली बार देश की स्वतंत्रता के जश्न में डूबा। इस गांव में 72 साल बाद पहली बार जवानों ने ग्रामीणों के साथ तिरंगा फहराया और देशभक्ति के नारे लगाए।

पूर्व नक्सली कमांडर वेट्टी रामा​ जिन इलाकों में फहराता था काला झंडा, 72 साल बाद उन्हीं गांवों में पहली बार किया ध्वजारोहण

छत्तीसगढ़ सुकमा जिले के घोर नक्सल प्रभावित ग्राम बंडा पहली बार देश की स्वतंत्रता के जश्न में डूबा। इस गांव में 72 साल बाद पहली बार जवानों ने ग्रामीणों के साथ तिरंगा फहराया और देशभक्ति के नारे लगाए। वहीं बंडा में ग्रामीण भी अपने बीच पुलिस के उपस्थिति से काफी उत्साहित और खुश हुए।


सुकमा घोर नक्सल प्रभावित ग्राम बंडा थाना कोंटा में पुलिस स्टाफ कोंटा द्वारा गांव में जाकर ध्वाजारोहण किया गया। यहां पहले माओवादी आकार स्वन्त्रता दिवस का विरोध करते हुए काला दिवस मानते और काला झंडा फहराते थे और ग्रामीणों को बरगलाया जाता था। वहीं ग्रामीण भी भयभीत होकर उनके सुर में सुर मिलाकर उनका साथ देते थे। परंतु आज की परिस्थितियां इसके विपरित होती जा रही हैं।


कुछ माह पूर्व आत्मसमर्पण करने वाला नक्सली कमांडर वेट्टी रामा जो कभी गांव में काला दिवस मनाने के लिए ग्रामीणों को डराता था। देश मुख्यधारा से जुड़कर वेट्टी रामा ग्रामीणों के साथ राष्ट्रीय पर्व मनाने गांव पंहुचा और ध्वाजारोहण कर दूसरे नक्सलियों से मुख्यधारा में जुड़ने की अपील की।


इस दौरान काफी संख्या में सुरक्षाबल के जवान भी मौजूद थे। उन्होंने ग्रामीणों के साथ तिरंगा फहराने के बाद राष्ट्रगान किया और देश भक्ति के नारे लगाए।

Share it
Top