logo
Breaking

सरकारी बंगले के लिए आवेदन नहीं करेंगे पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह अब सरकारी बंगले के लिए कोई आवेदन नहीं देंगे। उन्होंने तय किया है कि वे वीआईपी रोड स्थित अपने निजी आवास मौलश्री विहार में रहेंगे।

सरकारी बंगले के लिए आवेदन नहीं करेंगे पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह अब सरकारी बंगले के लिए कोई आवेदन नहीं देंगे। उन्होंने तय किया है कि वे वीआईपी रोड स्थित अपने निजी आवास मौलश्री विहार में रहेंगे।

बताया गया है कि वे यहां मकर संक्राति के बाद शिफ्ट हो जाएंगे। इससे पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मुख्यमंत्री निवास खाली होने के इंतजार में हैं। रायपुर में स्टेट गेस्ट हाउस पहुना को मुख्यमंत्री का अस्थायी निवास बनाया गया है।
उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार आवास के मामले को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने अंतत: यह फैसला कर लिया है कि वे अपने निजी निवास मौलश्री विहार में रहेंगे।
बताया गया है कि इससे पहले डॉ. रमन ने पूर्वमंत्री अजय चंद्राकर के बंगले को अपने लिए पसंद किया था। यह आवास उन्होंने सुरक्षा कारणों से चुना था, लेकिन उन्हें यह आवास नहीं मिल पाया।
वजह ये रही कि इस आवास को सरकार के मंत्री ताम्रध्वज साहू ने अपने लिए चुना और सरकार ने उन्हें आवंटित कर दिया है।
माना जा रहा है कि संभवत: इसी बात से आहत होकर पूर्व मुख्यमंत्री ने फैसला किया कि अब वे सरकारी आवास के लिए आवेदन नहीं करेंगे।

मुख्यमंत्री को भी है इंतजार
दूसरी ओर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल खुद इस बात के इंतजार में हैं कि कब उन्हें मुख्यमंत्री निवास मिले। फिलहाल वे पहुना में कुछ समय बिताते हैं, लेकिन रात में अपने भिलाई पदुम नगर के निवास में जाते हैं। सुबह दोपहर वे पहुना आकर लोगों से मिलते हैं।
दूसरी ओर मुख्यमंत्री के कुछ करीबी नेता पिछले दिनों एक से अधिक बार मुख्यमंत्री निवास जाकर वहां की स्थिति देखते हैं।

नए रायपुर में भी तैयारी
दूसरी ओर मुख्यमंत्री बघेल ने अधिकारियों से कहा है कि वे नया रायपुर में प्रस्तावित मुख्यमंत्री निवास तथा अन्य मंत्रियों के निवास एक साल के भीतर तैयार करें।
माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री की रूचि इस बात में भी है कि वे फिलहाल मुख्यमंत्री के लिए तय आवास सालभर बाद छोड़कर अटल नगर में बनने वाले नए आवास में शिफ्ट हों ताकि कामकाज में ज्यादा वक्त दे पाएं।
Share it
Top