Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पूर्ण शराबबंदी की अनुशंसा के लिए गठित समिति की पहली बैठक, सदस्यों ने नशा मुक्ति केंद्र खोलने सहित दिए कई सुझाव

प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी की अनुशंसा के लिए गठित प्रमुख राजनैतिक दलों के विधायकों की समिति की आज पहली बैठक की गई। बैठक में समिति के अध्यक्ष सत्यनारायण शर्मा ने समिति के सदस्यों से पूर्ण शराब बंदी के लिए सुझाव मांगे।

पूर्ण शराबबंदी की अनुशंसा के लिए गठित समिति की पहली बैठक, सदस्यों ने नशा मुक्ति केंद्र खोलने सहित दिए कई सुझाव
X

रायपुर। प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी की अनुशंसा के लिए गठित प्रमुख राजनैतिक दलों के विधायकों की समिति की आज पहली बैठक की गई। बैठक में समिति के अध्यक्ष सत्यनारायण शर्मा ने समिति के सदस्यों से पूर्ण शराब बंदी के लिए सुझाव मांगे। बैठक में शर्मा ने कहा कि शराबबंदी के निर्णय को लागू करने के लिए विभिन्न सामाजिक संगठनों के साथ विचार-विमर्श किया जाए और जिन राज्यों में शराबबंदी की गई है वहाँ अध्ययन दल भेंजे जाएं। समिति के सदस्यों ने बैठक में कारगर तरीके से पूर्ण शराबबंदी किए जाने के सम्बंध में अपने-अपने सुझाव दिए।

सामाजिक समितियों से शराबबंदी पर चर्चा की जाए एवं सामाजिक स्तर होने वाले कार्यक्रम में शराबबंदी के बने नियम को कड़ाई से पालन करवाया जाए। शराब दुकानों को धीरे-धीरे कम किया जाए, प्रत्येक जिला मुख्यालय में नशा मुक्ति केंद्र खोलने की एवं नशा मुक्ति के लिए रखे गए बजट में वृद्धि करने के सुझाव दिए गए। शराबबंदी हेतु जनजागरण के लिए सिनेमा हाल में विज्ञापन दिखाने, गाँव में डाक्यूमेंट्री फिल्म, नाटक, प्रहसन के माध्यम से शराब पीने से होने वाली हानियों के बारे जानकारी देने। अवैध शराब को पकड़वाने व्यक्ति को प्रोत्साहन राशि देने धार्मिक संस्थाओं का भी शराबबंदी में सहयोग लेने और महिलाओं का इस अभियान के लिए सहयोग हासिल करने जैसे सुझाव दिए गए।

बैठक में विभिन्न विषयों पर चर्चा की गई। जिनमें राज्यों में पूर्ण शराबबंदी लागू किए जाने के फलस्वरूप राज्यों के वित्तीय ढांचे, अर्थव्यवस्था पर प्रभाव, शराबबंदी का सामाजिक क्षेत्र में प्रभाव, शराबबंदी लागू करने में आई कठिनाईयां, शराबबंदी के फलस्वरूप राज्यों के कानून व्यवस्था की स्थिति में परिवर्तन-बदलाव, अवैध मदिरा के विक्रय, परिवहन और धारण को रोके जाने संबंधी समानांतर कार्यवाही, अनुसूचित क्षेत्रों में अनुसूचित जनजाति के समुदायों को नियत सीमा तक शराब के निर्माण एवं धारण के छूट पर शराबबंदी के प्रभाव, औचित्य और सफलता, अनुसूचित क्षेत्रों में शराबबंदी के फलस्वरूप उत्पन्न विधिक परिस्थितियां एवं प्रभाव, शराबबंदी के फलस्वरूप जनस्वास्थ्य पर प्रभाव शराबबंदी के फलस्वरूप पूर्व में नियोजित कर्मचारियों का प्रतिस्थापन और पुनर्नियोजन की व्यवस्था बैठक में पूर्ण शराबबंदी के पूर्व राज्य सरकार द्वारा चलाए गए जनचेतना अभियान एवं उसका प्रभाव तथा सामाजिक अंकेक्षण और राज्य सरकार द्वारा पूर्व से संचालित नशामुक्ति केन्द्रों की कार्यप्रणाली एवं उनकी भूमिका आदि विषय शामिल थे।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top