logo
Breaking

सेल्फी के चक्कर में बाप बेटी की चली जाती जान, ट्रैफिक वार्डन और आरक्षक ने बचाई जान

सेल्फी के चक्कर में कल एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया. टाटीबंद चौक स्थित गार्डन और फव्वारे में सेल्फी लेने के चक्कर में एक व्यक्ति का पैर फिसला और वह फव्वारे की टंकी में गिर गया

सेल्फी के चक्कर में बाप बेटी की चली जाती जान, ट्रैफिक वार्डन और आरक्षक ने बचाई जान

सेल्फी के चक्कर में कल एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया. टाटीबंद चौक स्थित गार्डन और फव्वारे में सेल्फी लेने के चक्कर में एक व्यक्ति का पैर फिसला और वह फव्वारे की टंकी में गिर गया इसके बाद उसे बचाने की कोशिश में उसकी बेटी का भी पैर फिसला और वह भी चपेट में आ गई .

इसके बाद फव्वारे में फैल रहा करंट दोनों को लगा.वही मौके पर मौजूद यातायात विभाग के ट्रैफिक वार्डन और एक आरक्षक ने जब घटना को देखा तो उन्होंने तत्काल फव्वारे को बंद किया और दोनों को बाहर निकाला इसके बाद दोनों को एम्स अस्पताल में दाखिल कराया गया है फिलहाल बेटी की हालत खतरे से बाहर है वही युवक की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है.

मंगलवार की रात आठ बजे टाटीबंध चौक स्थित फव्वारे पर युवक तरंग श्रीवास्तव अपनी बेटी एंजिल श्रीवास्तव और बेटे तनय श्रीवास्तव के साथ पहुंचा था. इस दौरान गार्डन का गेट बंद होने पर वे जाली फांदकर अन्दर घुसे और सेल्फी लेने लगे. इसके बाद अचानक से तरंग का पैर फिसला और वह फव्वारे के टैंक में गिर गया.पित़ा को बचाने के लिए एंजिल ने भी कोशिश की परन्तु वह भी अपने को संभाल नहीं पाई और टंकी में गिर गई.
पिता और बहन के टंकी में गिरने के बाद तनय ने शोर मचाया तब चौक पर ही मौजूद ट्रैफिक वार्डेन मोहम्मद सलीम और आरक्षक सुशिल सोनी का ध्यान उधर गया और वे दोनों को बचाने के लिए दौड़े. तब तक बाप बेटी करंट की चपेट में आ चुके थे. मौके पर पहुंचकर वार्डन और सिपाही ने पहले फव्वारे का बटन बंद किया और बाप बेटी को बाहर निकालने के बाद उन्हें उपचार के लिए अस्पताल रवाना किया.
Share it
Top