Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ग्राफ्टिंग पद्धति से की जा रही खेती का लाभ लेंगे त्रिपुरा के किसान, राज्यपाल ने छ्त्तीसगढ़ के विशेषज्ञों की किया आमंत्रित

छत्तीसगढ़ में आधुनिक पद्धति से उगाए जा रहे फल और सब्जियों की खेती के बारे में अब त्रिपुरा के किसान उन्नत खेती के तरीके जानेंगे। दिसंबर माह में कृषि के जानकारों की टीम का त्रिपुरा दौरा हो सकता है।

ग्राफ्टिंग पद्धति से की जा रही खेती का लाभ लेंगे त्रिपुरा के किसान, राज्यपाल छ्त्तीसगढ़ के विशेषज्ञों की किया आमंत्रित
X
Farmers of Tripura will take advantage of farming being done by grafting method Chhattisgarh

रायपुर। छत्तीसगढ़ में आधुनिक पद्धति से उगाए जा रहे फल और सब्जियों की खेती के बारे में अब त्रिपुरा के किसान उन्नत खेती के तरीके जानेंगे। दिसंबर माह में कृषि के जानकारों की टीम का त्रिपुरा दौरा हो सकता है। खासकर ग्राफ्टिंग पद्धति से की जा रही खेती का लाभ वहां के किसानों को मिलेगा। राजधानी के समीप नर्सरी का अवलोकन करने पहुंचे त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस ने प्रदेश के कृषि विशेषज्ञों को आमंत्रित किया है।

श्री बैस ने नर्सरी में उगाए गए कई प्रकार के फलों और सब्जियों के बारे में बारीकी से जानकारी ली। नर्सरी के प्रमुख डॉ नरायण भाई चावड़ा और डायरेक्टर अरिवंद अग्रवाल ने उन्हें बताया कि 100 प्रकार के फल और सब्जियों के बारे में सालभर उनकी नर्सरी में प्रदेश सहित देशभर से आनेवाले किसानप प्रशिक्षण लेते हैं। उन्होंने बताया कि वर्तमान में कृषि और हार्टिकल्चर के क्षेत्र में नई तकनीक का प्रयोग बढ़ा है। इससे साल भर किसान सीताफल , नींबू, बेल, मौसंबी, सेव, बेर, कटहल, अंजीर, चकोतरा आदि फल उगाकर अतिरिक्त आमदनी प्राप्त कर रहे हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story