logo
Breaking

Exit Poll 2018 Chhattisgarh : एक्जिट पोल 2018 में फंसी छत्तीसगढ़ की सरकार

ओपनियन पोल 2018 के बाद एक्जिट पोल 2018 (Exit Poll 2018) में भी छत्तीसगढ़ की तस्वीर धुंधली रह गई। सी वोटर-आईएनएच, इंडिया टूडे-एक्सिस, न्यूज नेशन-पेज इंडिया के एक्जिट पोल में कांग्रेस को बढ़त मिलती दिख रही है।

Exit Poll 2018 Chhattisgarh : एक्जिट पोल 2018 में फंसी छत्तीसगढ़ की सरकार

रायपुर. ओपनियन पोल के बाद एक्जिट पोल में भी छत्तीसगढ़ की तस्वीर धुंधली रह गई। सी वोटर-आईएनएच, इंडिया टूडे-एक्सिस, न्यूज नेशन-पेज इंडिया के एक्जिट पोल में कांग्रेस को बढ़त मिलती दिख रही है। वहीं इंडिया टीवी-टाइम्स न्यूज ने भाजपा को बरकरार रहने का दावा किया है। आईएनएच न्यूज़ चैनल और सी-वोटर्स के पोस्ट पोल सर्वे के मुताबिक छत्तीसगढ़ में सरकार बदल सकती है।

सर्वे के मुताबिक 90 सीटों पर हुए छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 46 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि भारतीय जनता पार्टी 39 सीटों पर सिमटती नज़र आ रही है। 5 सीटें अन्य के खाते में जाती दिख रही हैं।

वहीं, मुख्यमंत्री की बात की जाए, तो आज भी सबसे अधिक लोकप्रिय चेहरा डॉ. रमन सिंह को ही माना जा रहा है, जबकि आश्चर्यचकित करने वाली बात अजीत जोगी को दूसरे नंबर पर मुख्यमंत्री के रूप में पसंद किया गया है।

मुख्यमंत्री के लिए कांग्रेस के टीएस सिंहदेव तीसरे पायदान पर हैं। आईएनएच और सी-वोटर्स ने यह सर्वे चुनाव संपन्न होने के बाद कराए हैं और इसके लिए 19975 लोगों से बातचीत की गई है।

सर्वे के मुताबिक इस बार भारतीय जनता पार्टी की सरकार खिसकती हुई नज़र आ रही है। माना जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी इस विधानसभा चुनाव में 35 से 43 सीटों के बीच सिमट सकती है, जबकि कांग्रेस को 42 से 50 सीटें मिल सकती हैं।

वहीं अन्य को 3 से लेकर 7 सीटें मिलने का अनुमान है। 2013 में भाजपा को 49 सीटें, कांग्रेस को 39 सीटें और अन्य को 2 सीटें मिली थीं। इस पोस्ट पोल सर्वे में भारतीय जनता पार्टी का वोट शेयर भी कम होता दिख रहा है।

गौरतलब है कि पिछली बार भारतीय जनता पार्टी को कुल वोट का 41 प्रतिशत मिला था, जबकि कांग्रेस को 40.3 प्रतिशत मिला था। आईएनएच और सी-वोटर का अनुमान है कि इस बार भाजपा को 40 प्रतिशत वोट शेयर और कांग्रेस को 40.5 फीसदी वोट शेयर हासिल हो सकता है। यानी इस बार भी मुकाबला कांटे का है, क्योंकि एक प्रतिशत से भी कम वोट शेयर के अंतर में ही सरकार बनने जा रही है।

Share it
Top