Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चुनाव बदलेगा सरकार की चाल, बजट फरवरी में खत्म-मार्च में घूमेगा लोकसुराज का पहिया

अगले तीन दिन बाद नए साल के साथ ही चुनावी साल शुरू होते ही सरकार की चाल भी बदल जाएगी।

चुनाव बदलेगा सरकार की चाल, बजट फरवरी में खत्म-मार्च में घूमेगा लोकसुराज का पहिया

अगले तीन दिन बाद नए साल के साथ ही चुनावी साल शुरू होते ही सरकार की चाल भी बदल जाएगी। कहा जा रहा है, हर साल मार्च में होने वाला विधानसभा का बजट सत्र फरवरी के पहले हफ्ते में शुरू होकर माह के अंत में समाप्त हो जाएगा। इसके फौरन बाद से राज्य सरकार का प्रदेशव्यापी लोकसुराज अभियान 2018 भी शुरू कर दिया जाएगा।

छत्तीसगढ़ में चुनावी साल लगते ही सरकारी, प्रशासनिक व राजनीतिक गतिविधियों में तेजी आने वाली है। सरकार अपने रोज के कामकाज से अलग लंबे समय तक चलने वाले कार्यक्रमों की रूपरेखा में बदलाव करने के तैयारी में है। इस कड़ी में सबसे पहले विधानसभा के बजट सत्र की तारीखों में बदलाव संभावित है। उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें, तो सरकार इस साल का बजट सत्र फरवरी के पहले हफ्ते से शुरू करने की तैयारी में है।

बताया गया है कि बजट सत्र 5 फरवरी से शुरू करने तथा 28 फरवरी यानी होली से पहले समाप्त करने की रूपरेखा बनाई गई है। इससे पहले सत्र की मध्य अवधि में मुख्यमंत्री डॉॅ. रमन सिंह वित्तमंत्री के रूप में अपना बजट पेश कर सकते हैं। इसके लिए तारीख अभी तय होना बाकी है।

उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार भी इस साल का आम बजट जनवरी के तीसरे या चौथे सप्ताह में पेश करने की तैयारी में है। छत्तीसगढ़ में आमतौर पर बजट सत्र मार्च में आयोजित किया जाता है, लेकिन इस बार यह भी एक माह पहले समाप्त हो सकता है। हाल ही में समाप्त हुए शीतकालीन सत्र में विधानसभाध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने कहा था कि बजट सत्र फरवरी के प्रथम या दूसरे सप्ताह में संभावित है।

फरवरी में संभव

विधानसभा के सचिव चंद्रशेखर गंगराड़े का कहना है कि विधानसभाध्यक्ष ने समय बताया है, उसके मुताबिक फरवरी से बजट सत्र प्रारंभ होने की संभावना है, लेकिन शासन से इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं आई।

लोकसुराज भी जल्द शुरू होगा

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व वाली राज्य सरकार का सबसे महत्वाकांक्षी लोकसुराज अभियान जो आमतौर पर हर साल विधानसभा के बजट सत्र के समापन के बाद अप्रैल मई में होता है, इस बार यह अभियान भी मार्च के पहले या दूसरे हफ्ते से प्रारंभ करने पर विचार किया जा रहा है। इससे पहले 2017 का लोकसुराज अभियान 3 अप्रैल से शुरू किया गया था, जो अलग-अलग चरणों में 50 दिन चला था।

राज्य सरकार के लिए यह अभियान इसलिए अत्यंत महत्वाकांक्षी है, क्योंकि अभियान के तहत खुद मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह राज्य के 27 जिलों के 90 विधानसभा क्षेत्रों में जाकर आम जनता से सीधे मुलाकात करते हैं। उनकी समस्याओं की सुनवाई के लिए ब्लॉक स्तर पर शिविरों का आयोजन किया जाता है। पहले दौर में शिकायतें लेने के बाद अगले दौर में शिकायतों के समाधान के लिए शिविर लगाए जाते हैं।

इस आयोजन में सरकार के सभी मंत्री भी शामिल होते हैं, लेकिन इस बार यह अभियान जल्द शुरू करने की वजह है विधानसभा 2018 का चुनाव। माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव के लिए आचार संहितह सितंबर या अक्टूबर में लगेगी। राज्य सरकार इस कोशिश में है कि इससे पहले अपने महत्वपूर्व अभियान को पूरा करने सीधे चुनाव मैदान पर उतरने की तैयारी की जाए।

Next Story
Top