Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

विजय जुलूस : ऑटो पर सवार होकर निकले जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी

निर्विरोध चुने जाने के बाद जनता से मिलने के लिए अनोखा तरीका अख्तियार किया, पढ़िए पूरी खबर-

विजय जुलूस : ऑटो पर सवार होकर निकले जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी

सुकमा। वैसे तो जिला पंचायत को लेकर तस्वीर पहले से ही साफ थी, लेकिन अधिकारिक घोषणा के बाद पूरे नगर में उत्साह का माहौल था। जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए हरीश कवासी ने 11 में से 9 सदस्यों के साथ नामाकंन फार्म भरा। उसके बाद उनके खिलाफ किसी दूसरे सदस्य ने नामाकंन नहीं भरा। पीठसीन अधिकारी के द्वारा निर्विरोध अध्यक्ष के रूप में घोषणा की गई। वहीं प्रक्रिया उपाध्यक्ष के लिए भी हुई जिसमें बोडडू राजा को बनाया गया।

जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए पहले से ही दोबारा हरीश कवासी और उपाध्यक्ष के लिए बोडडू राजा का नाम लगभग फाईनल था। औपचारिकता निभाते हुए दोनों पदों के लिए निर्विरोध चुनाव प्रकिया सम्पन्न करा दी गई।

जीत के बाद हरीश कवासी और बोडडू राजा का कार्यकर्ताओं ने जोशीला स्वागत किया। ज्ञात हो कि जिला गठन के बाद यह दूसरा चुनाव है। इससे पहले भी अध्यक्ष के रूप में हरीश कवासी और उपाध्यक्ष बोडडूराजा ही थे। हरीश कवासी छिन्दगढ़ जिला पंचायत क्षेत्र से सदस्य हैं और बोडडूराजा कोंटा जिला पंचायत क्षेत्र से है।

जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर हरीश के नाम की घोषणा के बाद कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। उसके बाद हरीश कवासी ऑटो में सवार होकर जिला पंचायत कार्यालय से निकले और पूरा नगर भ्रमण किया।

इस दौरान कार्यकर्ताओं का अभिवादन स्वीकार किया और जनहित कार्य करने की बात कही। और उनका जगह-जगह स्वागत जनता ने किया। इस दौरान कई वरिष्ठ कांग्रेसी नेता भी साथ में मौजूद थे।

विजय जुलूस में शामिल होने के लिए दोपहर 1 बजे हरीश के पिता और राज्य सरकार के मंत्री कवासी लखमा भी हेलीकाप्टर से पहुंचे। हेलीपेड पर कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। उसके बाद आईएमएसटी स्कूल के पास कार्यकर्ताओं ने मंत्री कवासी लखमा और जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी का जोरदार स्वागत किया।

हरीश कवासी ने इसे प्रदेश सरकार की योजनाओं की जीत बताया है। कहा कि यह आम जनता का प्यार और कार्यकर्ताओं की मेहनत का नजीता है कि आज हम त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में मजबूत की स्थिति में हैं। हमारे सामने काफी चुनौती थी। हमारा मुकाबला सीपीआई और भाजपा के गठबंधन के साथ। इसके बावजूद प्रदेश सरकार की कार्ययोजना और मंत्री कवासी लखमा के विकास कार्यो के दम पर हम जीते हैं।

Next Story
Top