Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बघेल सरकार में मंत्री पद न मिलने से नाराज धनेंद्र ने राहुल गांधी से की मुलाकात

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष धनेंद्र साहू ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की।

बघेल सरकार में मंत्री पद न मिलने से नाराज धनेंद्र ने राहुल गांधी से की मुलाकात

खबर ये नहीं है कि छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष धनेंद्र साहू ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। बात की। खबर ये है कि वे गए तो थे प्रभारी पीएल पुनिया के साथ मगर राहुल गांधी से 10 मिनट की वन-टू-वन चर्चा में पुनिया शामिल नहीं थे।

तो सवाल ये उठता है कि ऐसी क्या बात थी जिसमें कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रभारी को बातचीत से अलग रखा! आमतौर पर ऐसा होता नहीं। जब कांग्रेस अध्यक्ष से मुलाकात का समय पुनिया ने ही फिक्स कराया तो फिर दोनों के बीच बातचीत के साक्षी क्यों नहीं रहे?

और जब पुनिया भी साहू के साथ राहुल गांधी के आवास तुगलक लेन गए तो हरिभूमि से बातचीत में उन्होंने ऐसा क्यों कहा कि मैं तो आगरा में था!

दरअसल, छत्तीसगढ़ में बघेल सरकार के गठन के बाद से ही धनेंद्र साहू दिल्ली प्रवास पर थे। उन्हें इस बात की टीस थी कि वरिष्ठ होने के बाद भी राज्य की नई कांग्रेस सरकार में उन्हें जगह नहीं दी गई। वे ये समझना चाहते थे कि इस निर्णय से क्या राहुल गांधी भी संतुष्ट हैं?

छत्तीसगढ़ भवन में प्रवास पर रहे धनेंद्र साहू हर दिन कोशिश करते रहे कि राहुल गांधी से मुलाकात हो जाए। नये साल के पहले दिन मुलाकात तो हुई मगर मुलाकात क्या सौगात लेकर आएगी इसकी गांरटी मिली क्या! मुलाकात के बाद सवाल के जवाब में धनेंद्र साहू कहते हैं, मैंने खुलकर बात की।

मंत्रिमंडल के गठन की बात हो या फिर लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर अपने नेता का मार्गदर्शन हो, पिछले कई चुनाव से कांग्रेस पार्टी के एक ही सांसद चुनकर लोकसभा पहुंच पा रहे हैं उनकी गिनती एक पर एक ग्यारह कैसे हो, इस पर भी विस्तार से चर्चा हुई। तो क्या आप अकेले गए थे मुलाकात करने?

इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, नहीं हमारे साथ प्रभारी पीएल पुनिया भी थे। उन्होंने ही हमारी मुलाकात तय कराई। मगर, राहुल गांधी के साथ हमारी बातचीत में वे शामिल नहीं थे। कांग्रेस अध्यक्ष से बातचीत कर आप संतुष्ट हैं? धनेंद्र साहू ने कहा, अपने नेता से बातचीत कर मैं पूरी तरह संतुष्ट होकर रायपुर लौट आया हूं।

दिल्ली के चक्कर

बघेल मंत्रिमंडल के गठन के बाद से केवल धनेंद्र साहू ही नहीं वरिष्ठ नेता और विधायक सत्यनारायण शर्मा, अमितेष शुक्ल और मनोज मंडावी के भी दिल्ली चक्कर लगातार बढ़ रहे हैं। ये बात अलग है कि इनमें से किसी के साथ अब तक राहुल गांधी ने मुलाकात नहीं की है।

पुनिया बोले, ये राजनीति का तकाजा

असंतुष्ट नेताओं की आवाजाही पर प्रभारी पीएल पुनिया हरिभूमि से कहते हैं, पहले नेताओं की टिकट के लिए दौड़ होती है फिर सरकार बनी तो मंत्रिपद के लिए। ये तो राजनीति का तकाजा है। हर किसी को अपनी बात रखने का कांग्रेस पार्टी में हक है।

Next Story
Share it
Top