logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार : ई-टेंडरिंग घोटाले की जाँच के लिए दिल्ली से रायपुर पहुंची साइबर एक्सपर्ट टीम

ई-टेंडरिंग घोटाले की जाँच के लिए साइबर एक्सपर्ट टीम रायपुर पहुँच चुकी है. इस साइबर एक्सपर्ट टीम को दिल्ली से बुलाया गया है. इस टीम में साइबर मामले के 2 एक्सपर्ट सदस्य हैं. ई-टेंडरिंग घोटाले की जाँच कर रही ईओडब्ल्यू को दोनों साइबर एक्सपर्ट सहयोग करेंगे.

छत्तीसगढ़ समाचार : ई-टेंडरिंग घोटाले की जाँच के लिए दिल्ली से रायपुर पहुंची साइबर एक्सपर्ट टीम

मनोज नायक, रायपुर. ई-टेंडरिंग घोटाले की जाँच के लिए साइबर एक्सपर्ट टीम रायपुर पहुँच चुकी है. इस साइबर एक्सपर्ट टीम को दिल्ली से बुलाया गया है. इस टीम में साइबर मामले के 2 एक्सपर्ट सदस्य हैं. ई-टेंडरिंग घोटाले की जाँच कर रही ईओडब्ल्यू को दोनों साइबर एक्सपर्ट सहयोग करेंगे.

बता दें कि पिछली भाजपा सरकार के कार्यकाल में ई-टेंडर के नाम पर चिप्स में 4601 करोड़ रुपए के घोटाले का पता चला है. राज्य के प्रधान महालेखाकार (कैग) ने अपनी रिपोर्ट में बीते 5 साल के दौरान हुए इस भ्रष्टाचार का खुलासा किया है.
कैग ने अपने रिपोर्ट में कहा है कि सरकार की आईटी एजेंसी चिप्स ने पीडब्लूडी, जलसंसाधन समेत 17 विभागों के निर्माण कार्यों के लिए ई-टेंडरिंग की प्रकिया लागू की, लेकिन टेंडर प्रक्रिया में इतने लूप-होल रखे कि बिना किसी प्रतिस्पर्धा के पसंदीदा ठेकेदारों को वर्क ऑर्डर दिए जाते रहे.
कैग ने खुलासा किया कि जिस कंप्यूटर से टेंडर भरे और मंजूर हुए वो अफसरों के थे. ठेकेदारों के साथ चिप्स और विभागीय अफसर मिलकर काम करते थे. कैग ने इस मामले में जांच की सिफारिश की थी.
Share it
Top