Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार: दुर्ग में स्वाइन फ्लू का कहर, अब तक दो की मौत

दुर्ग। दुर्ग में स्वाइन फ्लू से एक और मौत हो गई है। खबर के मुताबिक 50 साल की शकुन साहू की स्वाइन फ्लू से मौत हो गई है। उसका पिछले कुछ दिनों से निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। लेकिन महिला को बचाया नहीं जा सका। आपको बता दें कि भिलाई में इस समय स्वाइन फ्लू तेजी से फैल रहा है। अब तक यहां दो लोगों की जान जा चुकी है।

छत्तीसगढ़ समाचार: दुर्ग में स्वाइन फ्लू का कहर, अब तक दो की मौत

आनंद ओझा, दुर्ग। दुर्ग में स्वाइन फ्लू से एक और मौत हो गई है। खबर के मुताबिक 50 साल की शकुन साहू की स्वाइन फ्लू से मौत हो गई है। उसका पिछले कुछ दिनों से निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। लेकिन महिला को बचाया नहीं जा सका। आपको बता दें कि भिलाई में इस समय स्वाइन फ्लू तेजी से फैल रहा है। अब तक यहां दो लोगों की जान जा चुकी है। बता दें कि प्रदेश में स्वाइ फ्लू को लेकर हाई अलर्ट जारी किया गया है। सबसे अधिक मरीज दुर्ग जिले से मिले हैं।

क्या है स्वाइन फ्लू - स्वाइन इन्फ्लूएंजा एक संक्रामक सांस की रोग है जो कि सामान्य रूप से केवल सूअरों को प्रभावित करती है। यह आमतौर पर स्वाइन इन्फ्लूएंजा ए वायरस के H1N1 स्ट्रेंस के कारण होता है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण - जब लोग स्वाइन फ्लू के वायरस से संक्रमित होते हैं, तो उनके लक्षण आमतौर पर मौसमी इन्फ्लूएंजा के लोगों के समान ही होते हैं। इसमें बुखार, थकान, और भूख की कमी, खांसी और गले में खराश शामिल हैं। कुछ लोगों को उल्टी और दस्त भी हो सकती है।

रखें ये सावधानियां ः

(1) इस बीमारी से बचने के लिए हाइजीन का खासतौर पर ध्यान रखना चाहिए. खांसते समय और झींकते समय टीशू से कवर रखें. इसके बाद टीशू को नष्ट कर दें।

(2) बाहर से आकर हाथों को साबुन से अच्छे से धोएं और एल्कोहल बेस्ड सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें।

(3) जिन लोगों में स्वाइन फ्लू के लक्षण हों तो उन्हें मास्क पहनना चाहिए और घर में ही रहना चाहिए।

(4) स्वाइन फ्लू के लक्षण वाले मरीज से क्लोज कॉंटेक्ट से बचें. हाथ मिलाने से बचें. रेग्यूलर ब्रेक पर हाथ धोते रहें।

(5) जिन लोगों को सांस लेने में परेशानी हो रही हो और तीन-चार दिन से हाई फीवर हो, उन्हें तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

(6) स्वाइन फ्लू के टेस्ट के लिए गले और नाक के द्रव्यों का टेस्ट होता है जिससे एच1एन1 वायरस की पहचान की जाती है। ऐसा कोई भी टेस्ट डॉक्टर की सलाह के बाद ही करवाएं।

Next Story
Share it
Top