logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार: अब अमन के खिलाफ भी बनी SIT, PMO में शिकायत के बाद कार्रवाई

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के प्रमुख सचिव रहे पूर्व आईआरएस अधिकारी अमन सिंह के खिलाफ पीएमओ में हुई शिकायत पर राज्य शासन ने जांच के आदेश दिए हैं। सामान्य प्रशासन विभाग से जारी आदेश में ईओडब्ल्यू के महानिदेशक को पीएमओ से प्राप्त शिकायत के आधार पर उनके खिलाफ एसआईटी गठित कर जांच के आदेश दिये हैं।

छत्तीसगढ़ समाचार:  अब अमन के खिलाफ भी बनी SIT, PMO में शिकायत के बाद कार्रवाई
रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के प्रमुख सचिव रहे पूर्व आईआरएस अधिकारी अमन सिंह के खिलाफ पीएमओ में हुई शिकायत पर राज्य शासन ने जांच के आदेश दिए हैं। सामान्य प्रशासन विभाग से जारी आदेश में ईओडब्ल्यू के महानिदेशक को पीएमओ से प्राप्त शिकायत के आधार पर उनके खिलाफ एसआईटी गठित कर जांच के आदेश दिये हैं।
सामान्य प्रशासन विभाग की सचिव रीता शांडिल्य द्वारा जारी आदेश में ईओडब्ल्यू से कहा गया है कि 16 जनवरी को प्रधानमंत्री कार्यालय से प्राप्त पत्र में शिकायतकर्ता विजया मश्रिा ने अमन सिंह के खिलाफ आरोप लगाए हैं।
राज्य शासन की ओर से ईओडब्ल्यू को लिखे गये पत्र में कहा गया है कि पीएमओ में हुई शिकायतों के संबंध में अब तक कोई जांच नहीं कराई गई थी। मामले में राज्य शासन ने यह नर्णिय लिया है कि शिकायत की जांच एसआईटी गठित कर राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो द्वारा की जाए। दिल्ली में रहने वाली विजया मश्रिा ने 4 जनवरी 2019 में प्रधानमंत्री कार्यालय में ईमेल के जरिए अमन कुमार सिंह के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी।
यह थी शिकायत
पीएमओ से की गई शिकायत में विजया मिश्रा ने कहा था कि आईआरएस से वीआरएस लेने के बाद अमन कुमार सिंह ने संविदा नियुक्ति के दौरान यह तथ्य छिपाया था कि उनके खिलाफ किसी भी तरह की जांच पेंडिंग नहीं है।
छत्तीसगढ़ में प्रतिनियुक्ति से पहले 2001-2002 में कस्टम एंड सेंट्रल एक्साइज डिपार्टमेंट में बेंगलूरू में डिप्टी कमिश्नर रहते हुए उनके खिलाफ भ्रष्टाचार से जुड़े एक मामले में जांच की गई थी। कस्टम एंड सेंट्रल एक्साइज के डीजी विजिलेंस ने अमन कुमार ​सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के तहत चार्जशीट जारी की थी।
मुझसे स्पष्टीकरण तो ले लेते
कोई एसआईटी गठित हुई है इसकी जानकारी आपके फोन से ही मिल रही है। अगर कोई ​शिकायत थी तो मुझसे पत्र लिखकर स्पष्टीकरण लिया जाना था। बेतर होता कि सरकार जल्दबाजी में एसआईटी गठित करने से पहले कम से कम मेरा पक्ष तो पूछ लेती। शिकायत क्या है मुझे तो इसकी भी जानकारी नहीं है लेकिन इतना मैं दावे से कहने की स्थिति में हूं कि मेरे द्वारा कोई गलत कार्य नहीं किया गया है। -अमन सिंह, पूर्व प्रमुख सचिव
Share it
Top