logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार/ RTI एक्टिविस्ट कुणाल का खुलासा, अटल नगर नामकरण पर कैसे खर्च हुए करोड़ों रुपए, वन विभाग के खेलोें में भी सप्लाई घोटाला

RTI एक्टिविस्ट कुणाल शुक्ला के जरिए नया रायपुर का नाम अटल नगर करने की जो जानकारी सामने आई है वह चौंकाने वाली है। नया रायपुर का नाम अटल नगर करने फैसला पिछली रमन सरकार ने लिया था।

छत्तीसगढ़ समाचार/ RTI एक्टिविस्ट कुणाल का खुलासा, अटल नगर नामकरण पर कैसे खर्च हुए करोड़ों रुपए, वन विभाग के खेलोें में भी सप्लाई घोटाला
रायपुर। RTI एक्टिविस्ट कुणाल शुक्ला के जरिए नया रायपुर का नाम अटल नगर करने की जो जानकारी सामने आई है वह चौंकाने वाली है। नया रायपुर का नाम अटल नगर करने फैसला पिछली रमन सरकार ने लिया था।
एक्टिविस्ट कुणाल का आरोप है पिछली सरकार ने नया रायपुर में नामकरण के नाम जहां करीब 2 करोड़ रुपए खर्च कर दिए। वहीं वन विभाग में हो रहे राष्ट्रीय वन खेलों में अफसरों ने एडिडास जूता, टीशर्ट, ट्रैकसकूट सप्लाई के नाम पर 50 लाख की मोटी रकम अंदर की है।
एक्टिविस्ट कुणाल ने बताया सूचना के अधिकार के तहत मिली जानकारी के अनुसार नया रायपुर का नाम बदलवाने के एवज में राज्य सरकार ने एक करोड़ 86 लाख रुपये खर्च किये हैं। उन्होंने कहा एक जहां राज्य कर्जे में डूबा है, किसान महज 5000 हजार रुपए के कर्ज के लिए आत्महत्या कर रहा है वहां सिर्फ नामकरण के नाम करोड़ों रुपए खर्च करना शर्मनाक है।
कुणाल ने एक इंटरव्यू में कहा है कि वह मुख्य सचिव से इस संबंध में लिखित शिकायत कर जांच की मांग करेंगे। वहीं एक्टिविस्ट कुणाल ने राष्ट्रीय वन खेलों में भी बड़े घपले का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा वन में विभाग में हो रहे राष्ट्रीय वन खेलों में पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह के खास अफसरों ने एडिडास जूता, टीशर्ट, ट्रैकसूट सप्तलाई के नाम पर 50 लाख जैसी मोटी रकम का बड़ा घपला किया है।
31 दिसंबर 2018 को सिर्फ और सिर्फ एडिडास कंपनी के सामानों की सप्लाई की निविदा आनन फाानन में निकाली जाती है जबकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 17 दिसंबर को शपथ लेते हैं। सिर्फ एडिडास कंपनी से ही सामान खरीदने की निविदा निकालना अपने आप में कई शंकाएं पुष्ट कर जाता है क्योंकि पूर्व सीएम के खास अफसरों की पहले ही सेटिंग थी।
कुणाल शुक्ला ने अपने अधिकारिक बयान में कहा है कि वन विभाग के सूत्र तो यहां तक कहते हैं कि खिलाड़ियों को एडिडास का नकली समान थमा दिया गया है। अब वन मंत्री मोहम्मद अकबर को इस मामले में स्वयं संज्ञान लेकर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करना चाहिए।
कुणाल ने बताया इस घोटाले में शामिल वन अफसर का हैदराबाद में पांच सितारा होटल है और यह वही दक्षिण भारतीय शख्स है जो कि बस्तर में पदस्त रहते हुए एक संभ्रांत परिवार की महिला को अश्लीलता भरे व्हाट्सएप मैसेज भेजा करता था।
Share it
Top