Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार: रविशंकर विवि को इंटरनेशनल यूथ फेस्ट के लिए नहीं मिल रहे स्पांसर

पंडित रविशंकर शुक्ल विवि में आयोजित होने जा रहे दक्षिण एशियाई इंटरनेशल यूथ फेस्ट ​के लिए स्पॉन्सर नहीं मिल रहे। 22 फरवरी से 26 फरवरी तक इसका आयेाजन किया जाने वाला है। फेस्ट में एक माह का विकल्प ही रह गया है। ऐसे में रविवि की चिंता और बढ़ गई है।

छत्तीसगढ़ समाचार: रविशंकर विवि को इंटरनेशनल यूथ फेस्ट के लिए नहीं मिल रहे स्पांसर
रायपुर। पंडित रविशंकर शुक्ल विवि में आयोजित होने जा रहे दक्षिण एशियाई इंटरनेशल यूथ फेस्ट ​के लिए स्पॉन्सर नहीं मिल रहे। 22 फरवरी से 26 फरवरी तक इसका आयेाजन किया जाने वाला है। फेस्ट में एक माह का विकल्प ही रह गया है। ऐसे में रविवि की चिंता और बढ़ गई है।
यह पहली बार है, जब छत्तीसगढ़ को किसी इंटरनेशनल यूथ फेस्ट की मेजबानी मिली है। इस तरह के आयोजनों के लिए विश्वविद्यालय के बजट में पृथक प्रावधान नहीं होता। बुधवार को हुई कार्यपरिषद की बैठक में विश्वविद्यालय के सामान्य मद से 40 लाख रुपए देने का फैसला किया गया है। शेष 5 लाख रुपए छात्रकल्याण अधिष्ठाता की राशि से दिए जाएंगे।
वहीं 15 लाख रुपए का बंदोबस्त स्पांसरशिप के जरिए करने कहा गया है। स्पांसरशिप नहीं मिलने पर शेष राशि की व्यवस्था कहां से की जाएगी, इसे लेकर कुछ भी स्पष्ट नहीं किया गया है।
श्रीलंका और भूटान ने भेजी लिस्ट
रविवि में होने जा रहे यूथ फेस्ट के लिए अन्य देशों से छ़ात्रों के नाम आने का सिलसिला शुरू हो गया है। श्रीलंका और भूटान ने अपने छात्रों और विश्वविद्यालय के नाम रविवि को भेज दिए हैं। देश के अन्य हिस्सों से आने वाले छात्रों की सकूची भी भेजी जानी शुरू हो गई है। पाकिस्तान से अभी तक सूची प्राप्त नहीं हुई। इसमें विदेशी छात्रों को मैप सहित तमाम जानकारियां एक क्लिक पर मिल जाएंगी।

पड़ सकता है कार्यक्रम पर प्रभाव
स्पांसरशिप न मिलने का सीधा असर कार्यक्रम पर पड़ सकता है। निर्धारित प्रतियोगिताओं के अ​तिरिक्त प्रत्येक शाम छात्रों के लिए कल्चरल इवेंट आयोजित कराना निश्चित किया गया है। कल्चरल नाइट में कॉमेडी नाइटख् स्टैंडअप कॉमेउी, लाइव म्यूजिक जैसी मनोरंजक चीजें शामिल की जानी है। यदि पर्याप्त बजट नहीं मिला पाता, तो इन कल्चरल नाइट को कैंसिल करना पड़ सकता है अथवा इसके विकल्प के रूप में कुछ अन्य आयोजन कराए जा सकते हैं।
Next Story
Share it
Top