logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार: आज बंद रहेंगी सभी निजी अस्पतालों की OPD, मरीजों को परेशानी न हो इसलिए सरकार ने की वैकल्पिक व्यवस्था

डॉक्टर्स के साथ लगातार हो रही मारपीट की घटनाओं के विरोध में निजी अस्पतालों द्वारा आज प्रदेशभर में ओपीडी बंद रहेगी। हालांकि मरीजों को किसी तरह की कोई परेशानी न हो इसके लिए सरकार ने वैकल्पिक व्यवस्था की है।

छत्तीसगढ़ समाचार: आज बंद रहेंगी सभी निजी अस्पतालों की OPD, मरीजों को परेशानी न हो इसलिए सरकार ने की वैकल्पिक व्यवस्था
मनोज नायक, रायपुर। डॉक्टर्स के साथ लगातार हो रही मारपीट की घटनाओं के विरोध में निजी अस्पतालों द्वारा आज प्रदेशभर में ओपीडी बंद रहेगी। हालांकि मरीजों को किसी तरह की कोई परेशानी न हो इसके लिए सरकार ने वैकल्पिक व्यवस्था की है।
इसके लिए मरीजों की जांच व्यवस्था प्रभावित न हो इसलिए सरकारी अस्पतालोें सहित सभी स्वास्थ्य केंद्रों में होने वाली ओपीडी का वक्त दोपहर 2 बजे से बढ़ाकर शाम 5 बजे तक किया गया है। इससे मरीजों की जांच व्यवस्था प्रभावित नहीं होगी।

बता दें इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा डाक्टरों के साथ होने वाली मारपीट के विरोध में 30 अगस्त को निजी अस्पतालों की ओपीडी बंद रखकर अपना विरोध जता रहा है। इस दौरान मरीजों की जांच व्यवस्था प्रभावित होने की आशंका है।
हालांकि अस्पताल वालों द्वारा इमरजेंसी सेवा चालू रखी जाएगी, लेकिन अस्पतालों में सामान्य तरीके के ही मरीज पहुंचने की संभावना प्रबल है। इधर स्वास्थ्य विभाग की ओर से तमाम शासकीय अस्पतालों को बुधवार को होने वाली ओपीडी का वक्त दो से बढ़ाकर पांच बजे तक करने का आदेश दिया है। सरकारी अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्रों में ओपीडी का वक्त बढ़ाने से मरीजों को उपचार की सुविधा मिल जाएगी।
Image may contain: text
मुख्य बातें
  • अस्पतालों के साथ तमाम स्वास्थ्य केंद्रों में लागू रहेगी व्यवस्था।
  • मरीजों की अधिकता को ध्यान में रखते हुए अतिरिक्त आवश्यक दवाओं को फार्मेंसी में उपलब्ध रखने कहा गया।
  • 108, 102 की सेवाएं निरंतर सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए गए हैं।
डाक्टरों के साथ हो रही हिंसक घटनाएं
केंद्रीय इकाई की गाइडलाइन है कि डाक्टरों के साथ जो हिंसक घटनाएं हो रही हैं, उसकी तरफ शासन का ध्यान आकर्षित कराया जाएगा। इसके तहत बुधवार को आईएमए के सदस्य अपने अस्पतालों में ओपीडी सेवा बंद रखेंगे। इसके साथ ही इस मुद्दे पर ज्ञापन भी सौंपा जाएगा। -डा. राकेश गुप्ता, चेयरमैन, हास्पिटल बोर्ड
Share it
Top