Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सोनभद्र नरसंहार, पलपल गरमा रही सियासत, MP में काली पट्टी बांधकर विरोध वहीं CM भूपेश सर्मथन देने जाएंगे UP

उत्तरप्रदेश के सोनभद्र में बुधवार को हुए नरसंहार का मामला तूल पकड़ते जा रहा है। शुक्रवार को पीड़ित परिजनों मिलने जा रही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को पुलिस ने बीच में ही रोक दिया।

सोनभद्र नरसंहार, पलपल गरमा रही सियासत, MP में काली पट्टी बांधकर विरोध वहीं CM भूपेश सर्मथन देने जाएंगे UP

उत्तरप्रदेश के सोनभद्र में बुधवार को हुए नरसंहार का मामला तूल पकड़ते जा रहा है। शुक्रवार को पीड़ित परिजनों मिलने जा रही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को पुलिस ने बीच में ही रोक दिया। बावजूद इसके प्रियका गांधी सोनभद्र जाने पर अड़ी रहीं और वहीं वह मिर्जापुर में ही धरने पर बैठ गई।​ जिसके बाद उन्हें हिरासत में ले लिया गया। प्रियंका का कहना है कि वे नरसंहार पीड़ितों से मिले वगैर वापस नहीं लौटेंगी। इधर पुलिस द्वारा प्रियंका को रोके जाने को लेकर में आज कांग्रेस प्रदेश भर में प्रदर्शन कर रही है।

प्रियंका गांधी को गिरफ्तार करने की निंदा करता हूं - भूपेश

जिसके चलते शनिवार को प्रदेश मुखिया भूपेश बघेल अपने आज के सारे कार्यक्रम रद्द कर प्रियंका गांधी को समर्थन देने आज दोपहर 12.30 बजे सोनभद्र जा रहे हैं। इस दौरान सीएम भूपेश कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल के साथ सोनभद्र मामले में राज्यपाल से मुलाकात करेंगे। पीड़ित परिवार से मिलने जाने पर कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका जी को गिरफ्तार कर लिया गया। जब कोई घटना होती है, तो यह मानवीय दृष्टिकोण है कि राजनैतिक पार्टी के लोग पीड़ित परिवार से मिलने जाते हैं। घटना कही भी हो सकती है। प्रियंका गांधी को गिरफ्तार करना अलोकतांत्रिक है इसकी निंदा करता हूं।


मोदी और योगी सरकार तानाशाही कर रही

वहीं मध्यप्रदेश में कांग्रेस नेताओं ने ​भी प्रियंका गांधी को गिरफ्तार करने के विरोध में आज काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान सभी कांग्रेस नेता काली पट्टी बांधकर पैदल मार्च करते हुए विधानसभा पहुंचे। कांग्रेस विधायकों ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार और योगी सरकार तानाशाही कर रही है और इस तानाशाही के खिलाफ मध्य प्रदेश के सभी कांग्रेस के विधायक को मंत्री सड़कों पर उतरे हैं। यदि यह तानाशाही खत्म नहीं हुई तो उनका संघर्ष लगातार जारी रहेगा।

उत्तर प्रदेश प्रशासन द्वारा प्रियंका को सोनभद्र में पीड़ितों से मिलने से रोके जाने ने बाद शनिवार को मृतक के परिजन स्वयं प्रियंका गांधी से मिलने मिर्जापुर के चुनार गेस्ट हाउस पहुंचे। कांग्रेस महासचिव ने सबसे मुलाकात ही और हर संभव मदद का आश्वासन दिया है।

सोनभद्र जिले के घोरावल कोतवाली क्षेत्र के ग्राम उभ्भा में हुए नरसंहार के बाद मृतक के परिजनों से मिलने जा रही प्रियंका को शुक्रवार को उत्तर प्रदेश प्रशासन ने रोक दिया था। इसके बाद वह मिर्जापुर में ही धरने पर बैठ गई। उन्हें रोकने के लिए 3 एएसपी व 5 सीओ समेत 12 थानेदार लगे थे। प्रियंका ने साफ कह दिया है कि वह अब बिना मिले नहीं जाएंगी। इसलिए उन्होंने मिर्जापुर में कांग्रेस के गेस्ट हाउस में रात काटी। बताया गया कि वहां रात को साजिशन पानी और बिजली काटी गई। पर प्रियंका पर इसका कोई असर नहीं पड़ा।

शुक्रवार देर रात उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि मैं गरीब आदिवासियों की व्यथा जानने आई हूं। उत्तर प्रदेश का प्रशासन मुझे नौ घंटे से गिरफ्तार करके किले में रखा हुआ है। प्रशासन कह रहा कि मुझे 50,000 की जमानत देनी है, नही तो मुझे 14 दिन की जेल की सजा दी जाएगी। प्रियंका ने आगे कहा कि मैने न कोई कानून तोड़ा है और न ही कोई अपराध किया है। प्रशासन चाहे तो मैं अकेली उनके साथ पीड़ित परिवारों से मिलने गांव जाना चाहती हूं। इसके बावजूद उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने तमाशा खड़ा कर दिया। प्रियंका ने साफ कह दिया कि मैं पीड़ितों से मिलने जाउंगी सरकार को जो उचित लगे वो करे।

बता दें कि 17 जुलाई को उभ्भा गांव में 90 बीघा जमीन पर कब्जे के लिए ग्राम प्रधान समेत करीब 200 लोगों ने विरोध कर रहे ग्रामीणों पर हमला कर दिया। जिसके बाद 10 लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने आरोपी प्रधान समेत कई और लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही अभी कई और आरोपियों की तलाश में दबिश दी जा रही है।

मिर्जापुर में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और पार्टी कार्यकर्ता चुनार गेस्ट हाउस में धरने पर बैठे है। इस दौरान प्रियंका ने कहा कि 24 घंटे हो चुके हैं। मैं सोनभद्र के गोलीबारी मामले के पीड़ितों से मिलने की मुझे अनुमति नहीं मिलती है तब तक मैं नहीं जाऊंगी।

Next Story
Top