logo
Breaking

CIMS में एक और नवजात की मौत, अब तक 5 की मौत, लीपापोती करने में लगा प्रबंधन

सिम्स अस्पताल में हुई आगजनी की घटना के 8 दिनों बाद भी नवजात बच्चों की मौत का सिलसिला लगातार जारी है। आज भी एक बच्चे की सांस थम गई। बता दें इससे पहले आगजनी की घटना के चलते एनआईसीयू वार्ड में भर्ती 4 नवजात बच्चों की मौत हो गई थी।

CIMS में एक और नवजात की मौत, अब तक 5 की मौत, लीपापोती करने में लगा प्रबंधन

संदीप क​रिहार, बिलासपुर: सिम्स अस्पताल में हुई आगजनी की घटना के 8 दिनों बाद भी नवजात बच्चों की मौत का सिलसिला लगातार जारी है। आज भी एक बच्चे की सांस थम गई। बता दें इससे पहले आगजनी की घटना के चलते एनआईसीयू वार्ड में भर्ती 4 नवजात बच्चों की मौत हो गई थी। जानकारों का यह भी कहना है कि आगामी दिनों में बच्चों की मौत का आंकड़ा और भी बड़ सकता है। वहीं, इस मामले में अस्पताल प्रबंधन अपनी जिम्मेदारी निर्वहन करने के बजाए पल्ला झाड़ते और मामले को दबाने का प्रयास कर रही है।

बच्चों की मौत के मामले में यहां के डॉक्टरों ने पहले कहा था कि बच्चों की मौत दम घुटने से नहीं हुई है, लेकिन पीएम रिपोर्ट में बच्चों की मोत की वजह दम घुटने से हुई है बताया गया है। वहीं, सिम्स प्रबंधन अब भी यह मानने को राजी नहीं है कि बच्चों की मौत दम घुटने से हुई थी। लिहाजा सिम्स प्रबंधन जांच के लिए पीएम रिपोर्ट मेकाहारा रायपुर भेजा। इस घटना के बाद से लोगों में आक्रोश व्याप्त है। डॉक्टरों की जांच रिपोर्ट में लेटलतीफी कहीं न कहीं प्रबंधन में लोगों के जनाक्रोश का भय दिखाता है साथ ही मामले मे लिपापोती की भी आशंका जताई जा सकती है। बता दें कि बीते 22 जनवरी को सिम्स अस्पताल में आगजनी की घटना हुई थी। इसके बाद आनन-फानन में सिम्स प्रबंधन ने एनआईसीयू वार्ड में भर्ती सभी बच्चों को नजदीकी निजी अस्पतालों में भर्ती कराया था।
बिलासपुर के पचपेड़ी इलाके में रहने वाले दिलेश बंसल की पत्नी सुमन बंसल ने 31 दिसंबर को बच्चे को जन्म दिया था, जिसकी इस घटना में आज मौत हो गई। इसके साथ ही मौत का आंकड़े 5 हो गया।
Share it
Top