logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार : मनरेगा में गड़बड़ी पर ग्रामीण विभाग ने दिखाई सख्ती, 7 अधिकारियों को किया सस्पेंड...

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग ने मनरेगा में गड़बड़ी करने वाले अधिकारियों पर सख्ती दिखाई है. मनरेगा के 7 अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. इस संबंध में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के संयुक्त सचिव एसएल नायक के हस्ताक्षरित आदेश जारी किया गया है.

छत्तीसगढ़ समाचार : मनरेगा में गड़बड़ी पर ग्रामीण विभाग ने दिखाई सख्ती, 7 अधिकारियों को किया सस्पेंड...

रायपुर. पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग ने मनरेगा में गड़बड़ी करने वाले अधिकारियों पर सख्ती दिखाई है. मनरेगा के 7 अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. इस संबंध में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के संयुक्त सचिव एसएल नायक के हस्ताक्षरित आदेश जारी किया गया है.

ये अधिकारी हुए निलंबित
1. राजेंद्र प्रसाद श्रीवास्तव, वरिष्ठ लेखा लिपिक, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, संभाग- राजनांदगांव
2. विजय कुमार कौशल, संभागीय लेखापाल, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, संभाग- राजनांदगांव
3. एम घोरमारे, अनुविभागीय अधिकारी, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, उप संभाग- डोंगरगढ़
4. निखिलेश गैरारे, उप अभियंता, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, उप संभाग- डोंगरगढ़
5. गरिमा चौहान, उप अभियंता, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, उप संभाग- डोंगरगढ़
6. दीपक लाल हरिहरनों, सहायक ग्रेड-3, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, संभाग- राजनांदगांव
7. अनुपम चंद्राकर, उप अभियंता, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, उप संभाग- डोंगरगढ़
निलंबन आदेश के अनुसार महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना अंतर्गत स्टॉप डेम निर्माण कार्य, निविदा दर में संशोधन, अधिक राशि का फर्जी भुगतान करने, अनियमितता बरते जाने के कारण शासन को हुई वित्तीय क्षति के कारण सिविल सेवा वर्गीकरण नियंत्रण एवं अपील नियम 1966 के नियम 91 क के अंतर्गत तत्काल प्रभाव से निलंबित करता है. आदेश में आगे लिखा गया है कि निलंबन अवधि में सभी शासकीय सेवा मूलभूत नियम के तहत निर्वाह भत्ता प्राप्त करने की पात्रता होगी.
Share it
Top