Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Chhattisgarh News : एयरलाइंस की तर्ज पर ट्रेन में आरक्षण की सीटें जान सकेंगे यात्री

रेलवे एयरलाइंस की तर्ज पर एक ऐसी योजना पर काम कर रहा है, जिससे किसी विशेष ट्रेन में आरक्षण के समय उपलब्ध सीटों की स्थिति का पता यात्रियों को चल सकेगा। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि वह रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र यानी क्रिस की मदद से आरक्षण चार्ट को सार्वजनिक करने की योजना बना रहे हैं, ताकि सीटों की उपलब्धता से संबंधित यात्रियों की शिकायतें दूर की जा सकें।

Chhattisgarh News : एयरलाइंस की तर्ज पर ट्रेन में आरक्षण की सीटें जान सकेंगे यात्री

रेलवे एयरलाइंस की तर्ज पर एक ऐसी योजना पर काम कर रहा है, जिससे किसी विशेष ट्रेन में आरक्षण के समय उपलब्ध सीटों की स्थिति का पता यात्रियों को चल सकेगा। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि वह रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र यानी क्रिस की मदद से आरक्षण चार्ट को सार्वजनिक करने की योजना बना रहे हैं, ताकि सीटों की उपलब्धता से संबंधित यात्रियों की शिकायतें दूर की जा सकें।

जब कोई यात्री एयरलाइंस की वेबसाइट से सीट बुक कर रहा होता है, तो यह सीटिंग लेआउट या सीटिंग आरेख को अलग-अलग रंग में बुक की गई सीटों के साथ दिखाता है | ताकि यात्री उन सीटों की संख्या देख सके, जो अब भी खाली हैं और बुक की जा सकती हैं। एयरलाइंस में यात्री अपनी सुविधानुसार सीट का चयन कर सकते हैं, और क्षमता के अनुसार भुगतान कर सकते हैं।
रेलवे इस व्यवस्था को बाद में लागू करेगा। अब आरक्षण सुविधा सार्वजनिक करने की जरूरत है, ताकि यात्री किसी खास ट्रेन में बुकिंग की स्थिति देख सकें। एयरलाइंस की तरह यह बुकिंग करने वाले यात्रियों को उन सीटों को एक अलग रंग में दिखाएगा, जो पहले से बुक हैं। यह पीएनआर के तहत हो सकता है। सीटों का चयन अगला विकल्प होगा।
सुरक्षा मुद्दा अहम
ट्रेनों में सीट हमेशा प्रतीक्षा सूची में होती है, और यात्रियों के पास टीटीई से संपर्क करने के अलावा कोई विकल्प नहीं होता। यात्रियों की शिकायत के बाद टीटीई उन्हें खाली सीट की पेशकश करते हैं, जो बुकिंग के समय उन्हें दी जा सकती थी। हालांकि रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है, कि आरक्षण विवरण को सार्वजनिक करना सुरक्षा मुद्दा हो सकता है, और हर स्टेशन पर ट्रेनों के यात्रियों का चढ़ना और उतरना एयरलाइंस के विपरीत, एक बोझिल प्रक्रिया हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप बुकिंग की स्थिति में परिवर्तन होता है।
तन्मय मुखोपाध्याय, सीनियर डीसीएम, रेल मंडल रायपुर ने कहा कि अगर भारतीय रेलवे इस तरह की किसी योजना पर कार्य कर रहा है, तो आने वाले समय में इसकी सुविधा यात्रियों को मिल सकेगी।
-
Next Story
Share it
Top