logo
Breaking

पर्चा फेंक नक्सलियों ने कहा गोडेलगुड़ा मुठभेड़ फर्जी, दिया विकास कार्यों का ब्योरा

आज सुबह नक्सलियों ने दोरनापाल जगरगुंडा मार्ग पर गोरगुंडा गांव के पास सड़क किनारे व पेड़ों पर पर्चे लगाकर 10 फरवरी को गांव गांव में भूमकाल दिवस मनाने की अपील की है। वहीं पर्चों के जरिए नक्सलियों ने गोडेलगुड़ा में पिछले दिनों हुई मुठभेड़ को फर्जी बता कर जांच की मांग की है।

पर्चा फेंक नक्सलियों ने कहा गोडेलगुड़ा मुठभेड़ फर्जी, दिया विकास कार्यों का ब्योरा
अमन भदौरिया, सुकमा। आज सुबह नक्सलियों ने दोरनापाल जगरगुंडा मार्ग पर गोरगुंडा गांव के पास सड़क किनारे व पेड़ों पर पर्चे लगाकर 10 फरवरी को गांव गांव में भूमकाल दिवस मनाने की अपील की है। वहीं पर्चों के जरिए नक्सलियों ने गोडेलगुड़ा में पिछले दिनों हुई मुठभेड़ को फर्जी बता कर जांच की मांग की है।

पर्चों में नक्सलियों द्वारा दक्षिण बस्तर के गांवों में विकास करने का दावा किया गया है। साथ ही इसमें विकास कार्यों का ब्योरा भी दिया है। नक्सलियों ने पर्चे के जरिए पोलमपल्ली थानाक्षेत्र के गोडेलगुड़ा के पास 2 फरवरी को हुए मुठभेड़ को फर्जी बताया है और पूरे मामले की न्यायिक जांच और दोषी जवानों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग भी की है।
No photo description available.
नक्सली पर्चे के जारी होने के बाद सुकमा एसपी जितेंद्र शुक्ला ने व्हासअप पर संदेश जारी कर कहा कि 4 गांवों में जमीन समतल कर देना, छोटा मोटा तालाब बना देना वो भी गांव वालों की मेहनत से ही, वो विकास की रिपोर्ट हो गई। जबकि इसके पीछे इनका उद्देश्य इनका अपना फाइटिंग बेस बना के ही रखना है।
No photo description available.
एसपी जितेंद्र ने कहा मैं तो बोल रहा हूं...विकास कार्यों के लिए मैं आपका स्वागत करता हूं। हथियारों को साइड में रख कर सब मिलकर दो तीन साल सिर्फ गांवों का विकास के लिए ही काम करते हैं। उसमें जो भी गड़बड़ी होगी उसके सकारात्मक विरोध में पुलिस भी उनके साथ रहेगी। बस्तर के लोगों को भी जीने का अधिकार है।
Share it
Top