logo

छत्तीसगढ़ समाचार: सरकार बदलते ही माओवादियों के बदले सुर, पर्चा फेंककर पहली बार की विकास की मांग, देखिए क्या हैं उनकी मांगे

सरकार बदलते ही माओवा​दियों के सुर बदल गए हैं। प्रदेश में ऐसा पहली बार हुआ है जब नक्सल संगठन ने पर्चा फेंक कर सरकार से विकास कार्यों की 17 सुत्रीय मांग की है।

छत्तीसगढ़ समाचार: सरकार बदलते ही माओवादियों के बदले सुर, पर्चा फेंककर पहली बार की विकास की मांग, देखिए क्या हैं उनकी मांगे
विकास तिवारी, जगदलपुर। सरकार बदलते ही माओवा​दियों के सुर बदल गए हैं। प्रदेश में ऐसा पहली बार हुआ है जब नक्सल संगठन ने पर्चा फेंक कर सरकार से विकास कार्यों की 17 सुत्रीय मांग की है।
बता दें यह पर्चा पामेड़ एरिया कमेटी ने जारी किया है जिसमें माओवादियों ने सरकार से पिछड़े इलाकों का विकास, आश्रम, अस्तपताल और स्कूल खोलने व शिक्षकों और डॉक्टरों की नियुक्ति करने की मांग की है।

वहीं युक्ति युक्तकरण के तहत राज्य भर में बंद किये गए 3000 स्कूलों को पुनः चालू करने सरकार से गुहार लगाई है। नक्सलियों ने किसानों की कर्जमाफी, समर्थन मूल्य, पुलिस कैंप को हटाना, संविदा शिक्षकों के वेतन और शिक्षकों की कमी जैसी मांगों सरकार के सामने रखी हैं।
यह है नक्सलियों की मांगें...
No photo description available.
No photo description available.
बीजापुर के एसपी मोहित गर्ग ने माओवादियों द्वारा विकास की मांग को एक अच्छी पहल बताते हुए कहा कि इसे दो नजरिए से देखा जा सकता है। अच्छी बात है नक्सलियों ने विकास की मांग की है लेकिन अब भी उनका तरीका गलत है। उन्होंने कहा कि अगर वे सही में विकास चाहते हैं तो आत्मसमर्पण कर मुख्यधारा में जुड़ें और सरकार के साथ मिलकर काम करें।

Latest

View All

वायरल

View All

गैलरी

View All
Share it
Top