Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

वर्गीस की मौत पर बौखलाएं नक्सलियों ने फेंके पर्चे, 18 अप्रैल की मुठभेड़ को बताया फर्जी

दूसरे चरण के लोकसभा चुनाव के दिन 18 अप्रैल को दंतेवाड़ा के दुवालीकरका में नक्सली और सुरक्षाबलों की बीच हुई मुठभेड़ को नक्सलियों ने फर्जी बताया है।

वर्गीस की मौत पर बौखलाएं नक्सलियों ने फेंके पर्चे, 18 अप्रैल की मुठभेड़ को बताया फर्जी

दंतेवाड़ा। दूसरे चरण के लोकसभा चुनाव के दिन 18 अप्रैल को दंतेवाड़ा के दुवालीकरका में नक्सली और सुरक्षाबलों की बीच हुई मुठभेड़ को नक्सलियों ने फर्जी बताया है। नक्सलियों ने गाटम और कटेकल्याण के बीच पुलिया के पास पर्चे फेंके हैं। वहीं पर्चे मिलने के बाद पुलिस को अंदेशा है कि नक्सली पुलिया क आस पास कही छुपे हो सकते हैं।


अब मुठभेड़ पर आरोप लगाते हुए दरभा डिवीजन के सचिव साईंनाथ ने प्रेस नोट जारी किया, जिसमें जवानों द्वारा उनके निहत्थे साथियों की निर्मम हत्या करने की बात कही है। नक्सली नेता साईंनाथ ने छग के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर दोहरी राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार नक्सल समस्या को सामाजिक व आर्थिक समस्या कहती है और दूसरी ओर फर्जी मुठभेड़ करवाती है। पुलिस अधिकारियों द्वारा घायल नक्सली को गिरफ्तार करने के दावे को भी नकारते हुए उसे ग्रामीण बताया है।


बता दें दंतेवाड़ा जिले के दुवालीकरका में गुरुवार को डीआरजी और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई थी। इस मुठभेड़ में 2 नक्सलियों के मार गिराने की पुष्टि की गई थी। घटनास्थल से मलांगिर एरिया कमेटी का सदस्य वर्गीस और एक अन्य नक्सली का शव मिला था। इसके अलावा घटनास्थल से एक भरमार बंदूक और एक 315 बोर बंदूक बरामद हुई है। मुठभेड़ में एक नक्सली के घायल हो गया।

मुठभेड़ में मारे गए नक्सली वर्गीस के सर पर पांच लाख रूपए का ईनाम था और वह बारूदी सुरंग लगाने का मास्टर माइंड था। गौरतलब है वर्गीस पर नौ अप्रैल को कुवाकोंडा थाना क्षेत्र में बारूदी सुरंग विस्फोट की घटना में शामिल होने की सूचना थी। इस घटना में दंतेवाड़ा विधायक भीमा मंडावी और चार अन्य पुलिस कर्मियों की मौत हो गई थी।



Share it
Top