logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार: अंतागढ़ टेपकांड की जांच में फिरोज सिद्दीकी ने एसआईटी को बताया- 7 करोड़ में हुई थी डील

चर्चित अंतागढ़ टेपकांड की जांच करने गठित एसआईटी आक्रामक मोड पर आ गई है। अब टेपकांड से जुड़े लोगों से पूछताछ का सिलसिला शुरू हो गया है। एसआईटी ने बुधवार को फिरोज सिद्दीकी को बुलाया।

छत्तीसगढ़ समाचार: अंतागढ़ टेपकांड की जांच में फिरोज सिद्दीकी ने एसआईटी को बताया- 7 करोड़ में हुई थी डील

रायपुर. चर्चित अंतागढ़ टेपकांड की जांच करने गठित एसआईटी आक्रामक मोड पर आ गई है। अब टेपकांड से जुड़े लोगों से पूछताछ का सिलसिला शुरू हो गया है। एसआईटी ने बुधवार को फिरोज सिद्दीकी को बुलाया। गंज थाना परिसर स्थित क्राइम ब्रांच बिल्डिंग में उनसे करीब साढ़े 4 घंटे पूछताछ की गई। इस दौरान एसआईटी के अफसरों ने एक-एक कर करीब 60 सवाल दागे, जिसका उन्होंने जवाब दिया।

पूछताछ में फिरोज सिद्दीकी ने कहा, अंतागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी मंतुराम पवार को चुनाव मैदान से हटने के लिए 7 करोड़ रुपए में सौदेबाजी हुई थी, जिसमें करीब 3 करोड़ 50 लाख रुपए एक शख्स के माध्यम से मंतुराम पवार को भिजवाया गया था। इसमें कई राजनीतिक हस्तियां शामिल थीं। फिरोज से हुई पूछताछ के आधार पर अब एसआईटी मंतुराम पवार और संबंधित लोगों से पूछताछ करने की तैयारी में जुटी है। संभावना है, एक-दो दिन में पूछताछ की जाएगी।

इनकी बनी है एसआईटी
राज्य शासन ने रविवार को अंतागढ़ टेपकांड की जांच करने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम बनाने आदेश जारी किया। इसमें एसपी रायपुर नीतू कमल स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम की प्रभारी बनाई गई हैं। वहीं, डीएसपी अभिषेक माहेश्वरी, इंस्पेक्टर नरेश पटेल और एसआई विक्रम ध्रुव सदस्य हैं। बुधवार को फिरोज सिद्दीकी से पूछताछ के दौरान पूरी एसआईटी मौजूद थी।
अंतागढ़ उपचुनाव में फूटा था कांड
गौरतलब है, साल 2014 में राज्य के अंतागढ़ उपचुनाव में मंतुराम पवार कांग्रेस की तरफ से अधिकृत प्रत्याशी बनाए गए थे, लेकिन पवार ने नामांकन दाखिल करने के बाद नाटकीय तरीके से चुनाव मैदान छोड़ दिया था। पार्टी को सूचना दिए बगैर उन्होंने नामांकन वापस ले लिया। इस मामले को लेकर बड़ा बवाल मचा। कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि इसके पीछे भाजपा और जोगी खेमे का हाथ है। इशारों में पार्टी ने कुछ नाम भी सामने रखे थे।
इन दिग्गजों के नाम आए थे सामने
जानकारी के मुताबिक कांग्रेस प्रत्याशी मंतुराम पवार के नाम वापस लेने के बाद खरीद-फरोख्त के आरोप लगे और इसका एक टेप भी सामने आया था, जिसमें कतिपय लोगों की आवाज होने का दावा किया गया था। इस टेप के जारी होने के बाद छत्तीसगढ़ सहित पूरे देश में सियासी घमासान मच गया था, जिसका सीधा असर कांग्रेस पार्टी में फूट के रूप में दिखा। इस टेपकांड विवाद को लेकर छत्तीसगढ़ कांग्रेस दो धड़ों में बंट गई। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर अपनी नई पार्टी छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस का गठन कर लिया था।
और भी लोगों से पूछताछ की जाएगी
एसपी नीतू कमल ने बताया कि फिरोज सिद्दीकी से अंतागढ़ टेपकांड में कई पहलुओं पर पूछताछ की गई है। उनसे ओरिजनल ऑडियो टेप मांगा गया है। जांच में और भी लोगों से पूछताछ की जाएगी।
Share it
Top