logo
Breaking

15 साल बाद CM हाउस से विदा हुए डॉ रमन सिंह, सरकार ने E-1 बंगला किया आबंटित

आखिरकार पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने सीएम हाउस को बाय-बाय कर दिया। आज देर शाम उन्होंने मुख्यमंत्री निवास खाली कर दिया और VIP रोड स्थित मौलश्री विहार अपने घर में रहने चले गए।

15 साल बाद CM हाउस से विदा हुए डॉ रमन सिंह, सरकार ने E-1 बंगला किया आबंटित

रायपुर: आखिरकार पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने सीएम हाउस को बाय-बाय कर दिया। आज देर शाम उन्होंने मुख्यमंत्री निवास खाली कर दिया और VIP रोड स्थित मौलश्री विहार अपने घर में रहने चले गए। सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को पूर्व डीजीपी संत कुमार पासवान का बंगला दिया है। सिविल लाइन में सीएम हाउस के गेट नंबर-2 के सामने वाला ई-1 बंगला उन्हें आबंटित किया गया है, लेकिन बंगला पूरी तरह तैयार नहीं होने तक वो मौलश्री विहार स्थित अपने घर में ही रहेंगे। माना जा रहा है कि आबंटित बंगला के रंग रोगन के बाद वो इसमें शिफ्ट हो जाएंगे। एनएसजी सुरक्षा के कारणों को लेकर रमन सिंह को ई-1 बंगला अलॉट किया गया है।

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह बंगला खाली नहीं करने को लेकर लगातार निशाने पर थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी इसे लेकर चुटकी ली थी। पिछले दिनों बिलासपुर में एक सवाल के जवाब में भूपेश बघेल ने कहा था कि रमन सिंह सिंह समेत बीजेपी के तमाम नेता पूछ रहे हैं कि 30 दिनों में हमारी सरकार ने क्या किया? जनता के हित में लिए गए फैसले यह बताने के लिए काफी है कि 30 दिनों में हमने क्या कुछ नहीं किया। अब रमन सिंह बताए कि 30 दिनों में वे बंगला खाली क्यों नहीं कर पा रहे हैं।
मुख्यमंत्री भूपेश का पूर्व सीएम पर कसा गया ये तंज जाहिर तौर पर रमन सिंह के सीधे दिल पर लगेगी। लिहाजा इस बयान के 72 घंटे बाद ही रमन सिंह सीएम हाउस खाली कर दिया। आपको बता दें कि वो अभी कुछ दिनों मौलश्री विहार में ही रहेंगे। इधर मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही भूपेश बघेल पहुना में रह रहे हैं। अस्थायी तौर से पहुना से ही सीएम काम रहे हैं। अब माना जा रहा है कि जल्द ही भूपेश बघेल सीएम हाउस में शिफ्ट हो जाएंगे।
15 साल तक रहा रमन सिंह का आशियाना
रमन सिंह 15 सालों तक सीएम हाउस में रहे, जाहिर तौर पर सीएम हाउस से उनका नाता गहरा हो गया। सत्ता के शीर्ष तक पहुंचने से लेकर रमन सिंह की कामयाबी और शोहरत का ये बंगला गवाह रहा। आज देर शाम उन्होंने बंगला छोड़ा होगा, तो जाहिर है कि वो हर पल उनकी नजरों के सामने से गुजर गया होगा। तीन बार के मुख्यमंत्री रहे रमन सिंह के सत्ता के शिखर पर रहने का भी ये हाउस गवाह था और फर्श पर गिरने का भी गवाह रहा।
Share it
Top