logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार : राजेश मूणत की अ​ग्रिम जमानत याचिका खारिज

अंतागढ टेप प्रकरण में पूर्व मंत्री राजेश मूणत की ओर से दायर अग्रिम जमानत याचिका पर फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने खारिज कर दी।

छत्तीसगढ़ समाचार : राजेश मूणत की अ​ग्रिम जमानत याचिका खारिज
रायपुर। अंतागढ टेप प्रकरण में पूर्व मंत्री राजेश मूणत की ओर से दायर अग्रिम जमानत याचिका पर फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने खारिज कर दी। शाम करीब 5.15 बजे कोर्ट ने यह कहते हुए मूणत की याचिका खारिज कर दिया कि असाधारण परिस्थिति नही दिखती”“प्रकरण में विवेचना प्रारंभिक स्तर पर और साक्ष्य संकलन का काम जारी है”।
बता दें आज दोपहर में अंतागढ टेप प्रकरण में पूर्व मंत्री राजेश मूणत की ओर से दायर अग्रिम जमानत याचिका पर अदालत में दोनो पक्षों ने बहस पूरी होने के बाद अदालत ने इस मसले पर शाम 5 बजे तक के लिए अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। चतुर्थ अतिरिक्त जिला व सत्र न्यायाधीश विवेक कुमार वर्मा की अदालत में करीब एक घंटे चली बहस में जहां बचाव पक्ष की ओर से पूर्व उप महाधिवक्ता रमाकांत मिश्रा हैं तो वहीं राज्य सरकार की तरफ जमानत पर आपत्ति करने के लिए अतिरिक्त महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा उपस्थित थे।
राजेश मूणत के वकील ने दलील देते हुए कहा राजेश मूणत पर कोई अपराध नही बनता, 2014 का मामला है एफआईआर विलंभ से हुई है। एफआईआर में कोई एविडेंस नही है, भ्रष्टाचार अधिनियम 9,13 के तहत अपराध नही बनता।
ऑडियो टेप में राजेश मूणत की कोई आवाज नही है, उन्हें राजनीतिक दुर्भावना के तहत फसाया जा रहा है। वहीं शासन की ओर से सतीश चंद्र वर्मा जे अपनी दलील में कहा पूरे मामले के साजिशकर्ता थे राजेश मूणत।
वहीं राजेश मूणत के वकीलों ने कोर्ट के सामने आरटीआई के तहत दिए आवेदन की नकल पेश करते हुए अदालत से कहा, 'सर हमें एफआईआर की कॉपी नहीं दी जा रही है।'
हालांकि जैसे ही अदालत के संज्ञान में यह मामला लाया गया, प्रकरण के अभिलेख लेकर अदालत में मौजुद राज्य पुलिस के अधिकारियों ने तुरंत ही मूणत को एफआईआर की कॉपी उपलब्ध करा दी।
बता दें अंतागढ़ उपचुनाव में विधायक प्रत्याशी खरीदी-बिक्री मामले में आरोपी बनाए गए पूर्व मंत्री राजेश मूणत की ओर से उनके वकील रमाकांत मिश्रा ने गुरुवार को जिला न्यायाधीश रामकुमार तिवारी की कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी। अग्रिम जमानत याचिका पर कोर्ट ने 18 फरवरी का सुनवाई तय की थी।
उल्लेखनीय है ​कि प्रत्याशी खरीदी बिक्री मामले का आडियो टेप वायरल होने के बाद, राज्य सरकार ने मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित की है। एसआईटी ने इस मामले में विधायक प्रत्याशी मंतूराम पवार सहित डॉ. पुनीत गुप्ता, राजेश मूणत, अजीत जोगी और अमित जोगी के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
Share it
Top