logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार: इंजेक्शन लगने के बाद जब गलने लगी हड्डी, नर्स पर जुर्म दर्ज

नौ माह की बच्ची को नर्स ने अपने सहयोगी से टीके लगवा दिया। कुछ दिनों बाद बच्ची का हाथ संक्रमित हो गया। हड्डियों में गलन शुरू हो गई। बच्ची की पिता की शिकायत पर नर्स के खिलाफ जुर्म दर्ज किया गया है।

छत्तीसगढ़ समाचार: इंजेक्शन लगने के बाद जब गलने लगी हड्डी, नर्स पर जुर्म दर्ज
महासमुंद। नौ माह की बच्ची को नर्स ने अपने सहयोगी से टीके लगवा दिया। कुछ दिनों बाद बच्ची का हाथ संक्रमित हो गया। हड्डियों में गलन शुरू हो गई। बच्ची की पिता की शिकायत पर नर्स के खिलाफ जुर्म दर्ज किया गया है।
जानकारी के अनुसार जिले के पिथौरा ब्लाक के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में साढ़े नौ माह की बच्ची को नर्स द्वारा अपने अप्रशिक्षित सहयोगी से टीका लगवाए जाने के मामले में अंतत: घटना के 9 माह बाद पुलिस ने नर्स और सहयोगी के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर लिया है। पुलिस में दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार ग्राम राजसेवैया खुर्द निवासी रविशंकर पाढ़ी पेशे में वाहन चालक है।
बीते साल 29 मई 2018 को पाढ़ी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में अपनी साढ़े नौ माह की बेटी को टीका लगवाया। ड्यूटी में मौजूद महिला नर्स एसबी गार्डिया की बजाय उनकी अप्रशिक्षित सहयोगी ने बच्ची के दाहिने हाथ में लगाया। पाढ़ी का आरोप है कि टीका लगाने में लापरवाही की वजह से बच्ची के हाथ में संक्रमण हो गया। इसके कारण बच्ची की हाथ की हड्डियों गलने लग गई और वह अपंगता का ​शिकार हो गई। इस पर पुलिस ने मामले में आरोपियों के खिलाफ धारा 337 34 के तहत अपराध दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया है।

निजी अस्पताल में उपचार
वर्तमान में बच्ची का इलाज एक निजी अस्पताल में जारी है। पिता ने मामले में खण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर तारा अग्रवाल उनकी अधीनस्थ एसबी गार्डिया और उनकी सहयोगी अप्रशिक्षित नर्स व प्रभारी डाक्टर के खिलाफ शिकायत की।

नहीं हुई कार्रवाई, तो पहुंचे न्यायालय में भी
पुलिस में शिकायत के बाद भी जब मामले में दोषियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई तो बच्ची के पिता ने ​न्यायालय में याचिका दाखिल की है। इसमें न्यायालय ने सीएमओ को उपस्थित होने का आदेश दिया है।
Share it
Top