logo
Breaking

डॉ. खूबचंद बघेल के गांव पहुंच कर सीएम ने दी श्रद्धांजलि, धान व लड्डूओं से तौलकर किया गया बघेल का स्वागत

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सबसे पहले ग्राम पथरी के डॉ. खूबचंद बघेल चौक पहुंचकर वहां स्थापित डॉ. बघेल की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रृद्धांजलि दी। इसके पश्चात् पथरी के शासकीय हायर स्कूल प्रांगण में आयोजित पुरखा के सुरता कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। मुख्यमंत्री ने ग्राम पथरी में मॉडल गौठान और घुरूवा के निर्माण के लिए 50 लाख रूपए की घोषणा भी की।

डॉ. खूबचंद बघेल के गांव पहुंच कर सीएम ने दी श्रद्धांजलि, धान व लड्डूओं से तौलकर किया गया बघेल का स्वागत

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सबसे पहले ग्राम पथरी के डॉ. खूबचंद बघेल चौक पहुंचकर वहां स्थापित डॉ. बघेल की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रृद्धांजलि दी। इसके पश्चात् पथरी के शासकीय हायर स्कूल प्रांगण में आयोजित पुरखा के सुरता कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। मुख्यमंत्री ने ग्राम पथरी में मॉडल गौठान और घुरूवा के निर्माण के लिए 50 लाख रूपए की घोषणा भी की। मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार पथरी ग्राम पहुंचने पर ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री बघेल को धान व लड्डूओं से तौलकर उनका अभिनंदन भी किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री बघेल ने आगे कहा कि डॉ. खूबचंद बघेल सहित हमारे पुरखों ने समृद्ध छत्तीसगढ़ का सपना देखे है।

हमारे यहां की 12 आना जनसंख्या गांव में रहती है। जब तक गांव समृद्ध नही बनेंगे, तब तक छत्तीसगढ़ समृद्ध नहीं हो सकेगा। राज्य सरकार इसी दिशा में तेजी से काम कर रही है। चाहे वह किसानों की कर्जमाफी हो या फिर धान का 2500 रूपए मूल्य। राज्य सरकार छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी के संरक्षण और संवर्धन की दिशा में तेजी काम कर रही है। इससे न केवल कृषि की लागत घटेगी बल्कि मिट्टी की उर्वरा शक्ति बढ़ने के साथ ही यह हमारी ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने में अहम भूमिका निभाएगी।

Share it
Top